जनादेश विशेष:नगर निगम पालमपुर में जीत का एक पहलू यह भी 

जनादेश विशेष:नगर निगम पालमपुर में जीत का एक पहलू यह भी 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 09 Apr, 2021 01:34 pm प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा

हिमाचल जनादेश,संजीव थापर(स्वंतत्र लेखक)  

लोक प्रतिनिधित्व वाले राज्यों में ' निर्वाचन' करवाना एक संवैधानिक ज़िम्मेवारी है , अब वह चाहे लोकसभा का निर्वाचन हो चाहे विधानसभा का या नगर निगम का । इसी के दृष्टिगत संविधान निर्माताओं ने " भारत निर्वाचन आयोग " और सम्बन्धित राज्यों में " राज्य निर्वाचन आयोगों " की स्थापना का प्रावधान रखा था । " भारत निर्वाचन आयोग " का मुख्य कार्य राष्ट्रपति , उप राष्ट्रपति , लोकसभा , राज्यसभा और सम्बन्धित राज्यों में विधानसभाओं के निर्वाचन सम्पन्न करवाना है वहीं " राज्य निर्वाचन आयोग " का मुख्य कार्य पंचायतों , नगर पालिका / परिषद और नगर निगमों के निर्वाचन करवाना है ।

निर्वाचन प्रबन्धन को सुचारू रूप से चलाने के लिये निर्वाचन आयोग द्वारा राजनैतिक दलों की रजिस्ट्रेशन व अन्य नियमों इत्यादि को RP Act 1950 व 1951 के अंतर्गत लिखित रूप में गठित किया गया है और समस्त निर्वाचन प्रक्रिया इसी के अनुसार नियमों की पालना करते हुये चलती है । राजनैतिक दलों पर निर्वाचनों के दौरान "क्या करना है" या "क्या नहीं करना" के अंकुश भी लगाये गये है । इन अंकुशों में व्यक्ति विशेष या किसी राजनैतिक दल के प्रति दूषित प्रचार या व्यक्तिगत अशोभनीय टिप्पणी करना मना है किन्तु कालांतर में देखने में आया है कि इस परिपाटी पर राजनैतिक दल खरे नहीं उतरे है । पश्चमी बंगाल के निर्वाचन इसका ताजा उदाहरण है । 

हमारे प्रदेश हिमाचल में हालांकि इतना स्तर नहीं गिरा है किंतु अभी अभी सम्पन्न नगर निगम के चुनावों में लगता है इसकी शुरूआत हो चुकी है । पालमपुर के नगर निगम के निर्वाचन का छोटा सा अवलोकन मैंने किया है जो पाठकों के लिये प्रस्तुत है :-

एक नजर इधर भी-जन्मदिन विशेष:अपने अभिनय के साथ अमिताभ के कठिन वक्त में भी हमसफर के रूप में डटी रहीं जया बच्चन

आशीष बुटेल के शांत स्वभाव और व्यवहार ने निस्संदेह मतदाताओं को प्रभावित किया । किसी भी अन्य दलों के नेताओं पर उन्होंने कटाक्ष नहीं किया । इस प्रकार अपनी पार्टी और प्रत्याशियों के पक्ष में एक उच्चतम स्तर उन्होंने बनाए रखा । इसे सभी आम नागरिकों विशेषकर मतदाताओं द्वारा पसंद किया गया । इसके दूसरी ओर कुछ तथाकथितों द्वारा बुटेल परिवार के प्रति कुछ अशोभनीय बातें भी कही गई जिसका बुटेल परिवार ने तो नहीं अपितु मतदाताओं ने भरपूर जवाब दिया । 

दोस्तो आज के समय में सभी लोग और मतदाता पढ़े लिखे और परिपक्व हैं और आशा करते हैं कि उनके द्वारा चुने जाने वाले प्रतिनिधि भी व्यवहार कुशल और काम करने वाले हों ना कि एक दूसरे के प्रति अशोभनीय टिपणिया करने वाले । आशा है उन्हें यह सब समझ आ गया होगा और भविष्य में ऐसी गलती नहीं करेंगे ।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.