एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, पढ़ें रिक्शा चालक से मुख्यमंत्री तक का सफर

एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री, पढ़ें रिक्शा चालक से मुख्यमंत्री तक का सफर

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 30 Jun, 2022 06:14 pm राजनीतिक-हलचल सुनो सरकार देश और दुनिया लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश, न्यूज़ डेस्क 

शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री होंगे। भारतीय जनता पार्टी के नेता देवेंद्र फडणवीस ने गुरुवार को इसकी घोषणा कर सभी को चौंका दिया। इससे पहले कहा जा रहा था कि पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ही दोबारा महाराष्ट्र के सीएम होंगे। हालांकि अब फडणवीस ने ऐलान किया है कि भाजपा सरकार में भी शामिल नहीं होगी और शिंदे को बाहर से समर्थन देगी। अब जब तय हो गया है कि एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र के अगले सीएम होंगे तो उनके बारे में जानना भी जरूरी हो जाता है। 

9 फरवरी 1964 को महाराष्ट्र के सतारा में जन्में एकनाथ शिंदे पिछले दिनों देश के सबसे चर्चित नाम हैं। शिवसेना में बगावत के बाद अब वे भाजपा के समर्थन से सरकार बना रहे हैं। एकनाथ संभाजी शिंदे उद्धव सरकार में पीडब्ल्यूडी कैबिनेट मंत्री थे। वे कोपरी-पचपाखड़ी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से विधायक हैं। शिंदे 2004, 2009, 2014 और 2019 के लिए महाराष्ट्र विधानसभा में लगातार 4 बार निर्वाचित हुए हैं। कम उम्र में ही वे ठाणे आ गए और 11वीं तक की शिक्षा मंगला हाई स्कूल और जूनियर कॉलेज से पूरी की। उन्हें शिक्षा छोड़नी पड़ी, और अपने परिवार को सपोर्ट करने के लिए काम करना शुरू कर दिया।

1980 में, वह शिवसेना सुप्रीमो बालासाहेब ठाकरे से प्रभावित थे और एक शिवसैनिक के रूप में काम करते हुए पार्टी में शामिल हो गए। उस समय के दौरान, उन्होंने कई आंदोलनों में भाग लिया। उन्होंने बेलगौवी की स्थिति को लेकर महाराष्ट्र-कर्नाटक आंदोलन में भाग लिया था जिसके बाद उन्हें 40 दिनों के लिए जेल में डाल दिया गया था।

एक नजर इधर भी-नूरपुर : विश्व हिंदू परिषद व अन्य हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने उदयपुर हत्याकांड के विरोध में एसडीएम के माध्यम से राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

कभी एकनाथ शिंदे मुंबई से सटे ठाणे शहर में ऑटो-रिक्शा चलाते थे। वे अपने परिवार को सपोर्ट करने के लिए रिक्शा चलाते थे। 58 वर्षीय शिंदे राजनीति में शामिल होने के बाद ठाणे-पालघर क्षेत्र में एक प्रमुख शिवसेना नेता के रूप में उभरे और जनहित के मुद्दों के प्रति आक्रामक दृष्टिकोण के लिए जाने जाते हैं।

शिवसेना ने उन्हें 1997 में, एक पार्षद के रूप में ठाणे नगर निगम (टीएमसी) का चुनाव लड़ने का अवसर दिया, जिसमें उन्होंने भारी बहुमत से जीत हासिल की। 2001 में, वह ठाणे नगर निगम में सदन के नेता के रूप में चुने गए। वह 2004 तक इस पद पर बने रहे। ठाणे नगर निगम में सदन के नेता के रूप में, उन्होंने खुद को ठाणे नगर निगम या शहर से संबंधित मुद्दों तक ही सीमित नहीं रखा, बल्कि समग्र विकास और पूरे जिले के कल्याण में सक्रिय रुचि ली। 2004 में, शिंदे को बालासाहेब ठाकरे द्वारा ठाणे विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा चुनाव लड़ने का मौका दिया गया था, और उन्होंने इसे भारी बहुमत से जीता था। अगले ही वर्ष, 2005 में, उन्हें शिवसेना ठाणे जिला प्रमुख के प्रतिष्ठित पद पर नियुक्त किया गया।


वह 2009, 2014 और 2019 के बाद के विधानसभा चुनावों में भी विजयी हुए। 2014 के चुनावों के बाद, उन्हें शिवसेना के विधायक दल के नेता और बाद में महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में चुना गया। एक महीने के भीतर, जैसा कि शिवसेना ने राज्य सरकार में शामिल होने का फैसला किया, उन्होंने लोक निर्माण विभाग (सार्वजनिक उपक्रम) मंत्री के रूप में शपथ ली और जनवरी 2019 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की अतिरिक्त जिम्मेदारी संभाली। एकनाथ शिंदे की शादी लता शिंदे से हुई है। उनके बेटे, डॉ श्रीकांत शिंदे, एक आर्थोपेडिक सर्जन हैं। वे कल्याण निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा सांसद हैं।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.