सड़क दुर्घटनाएँ : कारण व निवारण... 

सड़क दुर्घटनाएँ : कारण व निवारण... 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 19 Apr, 2022 09:25 am प्रादेशिक समाचार क्राईम/दुर्घटना सुनो सरकार लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर चम्बा स्वस्थ जीवन आधी दुनिया

 

हिमाचल जनादेश ,संवाददाता 

हमारे क्षेत्र में लगभग प्रतिदिन हो रही सड़क दुर्घटनाएँ न जाने कितने नौजवानों के जीवन को समाप्त कर चुकीं हैं,यह गंभीर चिंता का विषय है क्या गुजरती होगी उन माँ बाप पर जो अपने कलेजे के टुकड़ों को खो चुके हैं,उनका दर्द तो वही जानते हैं जो इस दर्द को झेल रहे हैं। 

बहुत दुखी होता है मन जब कोई अकाल मौत के आगोश में जाकर अपने माँ बाप को जीवन भर का असहनीय दर्द दे जाते है। जिंदगी की क्षति पूर्ति असंभव है। जीवन सबसे अनमोल है इस से ज्यादा कोई चीज कीमती नहीं है।

हम लोग अक्सर इन दुर्घटनाओं के एक पहलु तक ही सीमित रहते हैं जो कि हम सब की भूल है। निस्संदेह सड़कों की अच्छी स्थिति न होना दुर्घटनाएँ होने का सबसे बड़ा कारण है परन्तु मात्र यही वजह बताकर हम अन्य उतरदायित्वों से मुहं नहीं मोड़ सकते। 

एक नजर इधर भी -हिमाचल : घर पर फंदे से लटका मिला नौ माह के बच्चे और मां का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी

पुलिस और प्रशासन हमेशा अपने स्तर पर इन सब चीजों को रोकने का हर संभव प्रयास करता है परंतु हर बार बात जागरुकता की कमी पर रुक जाती है।अक्सर देखा गया है कि माँ बाप उन बच्चों के हाथ में वाहन थमा देते हैं जो कानूनन इसके लिए योग्य नहीं होते और जिनमें वाहन नियंत्रण की क्षमता नहीं होती। 

बहुत से मामलों में देखा गया है कि आज की पीढ़ी नशे की ओर अधिक आकर्षित  हो रही है जो गंभीर चिंता का विषय है। जिस से वाहन नियंत्रण में निर्णय लेने  की मस्तिष्क की क्षमता में कमी आती है,परिणाम वही होता है जिसे हम आज भुगत रहे हैं। 

आधुनिकता के दिखावे के कारण कुछ अभिभावक अपने बच्चों को अधिक स्वतंत्रता दे देते हैं परिणामस्वरूप  यह स्वतंत्रता कई बार अराजकता का विषय बन जाती है। 

कारण तो बहुत हैं परंतु जनमानस की जागरुकता ही मात्र इस समस्या का समाधान हो सकता है।आज आवश्यकता है तो आम लोगों को जागरूक करने की ताकि भविष्य में किसी घर का चिराग न बुझे। इसके लिए शासन, प्रशासन के साथ समाज के हर वर्ग को जागरूक करने व अपने उत्तर दायित्व के निर्वहन का बीड़ा उठाने की तभी संभवतः भविष्य में ऐसी घटनाओं पर अंकुश लग सके। 

लेखक: विक्रम वर्मा

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.