विकास को तरसता गैर जनजातीय क्षेत्र.....

विकास को तरसता गैर जनजातीय क्षेत्र.....

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 11 Apr, 2022 07:40 am प्रादेशिक समाचार लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर चम्बा शिक्षा व करियर आधी दुनिया


हिमाचल जनादेश ,चम्बा (संवाददाता )

कभी चम्बा, कभी भरमौर तो कभी कुछ क्षेत्र भटियात विधानसभा का हिस्सा रहा वर्तमान में भरमौर विधानसभा क्षेत्र का हिस्सा जो गैर जनजातीय क्षेत्र के नाम से जाना जाता है।

विडंबना यह है कि यह क्षेत्र किसी भी विधानसभा क्षेत्र में रहा पर हमेशा से ही विकास को तरसता रहा। अपनी भौगोलिक व सांस्कृतिक पहचान गद्दी संस्कृति से होने पर भी प्रशासनिक व राजनीतिक कारणों से आज भी गैर जनजातीय क्षेत्र के नाम से जाना जाता है ।

एक नजर इधर भी - नागालैंड चैकपोस्ट पर लटका मिला CRPF में तैनात हिमाचली जवान का शव,जांच करवाने की मांग

इस क्षेत्र का सबसे बड़ा दुर्भाग्य शायद यह भी रहा होगा कि आज तक जिस भी राजनेता ने नेतृत्व किया है वो या तो सदर चम्बा या भरमौर से संबंधित रहे परिणामस्वरूप यह क्षेत्र आज भी उपेक्षा का शिकार है। सबसे बड़ी कमी राजनीतिक दूरदर्शिता व सर्वांगीण विकास की विचारधारा से अयोग्य नेतृत्व की रही।

यहाँ की राजनीति मात्र कुछ ऐसे लोगों तक ही सीमित रही जिन्होंने मात्र अपनी स्वार्थसिद्धि को ही अपनी प्राथमिकता दी।आज भी विकास के नाम पर यह अपने आप को ठगा सा महसूस करता है। पता नहीं कब यह क्षेत्र विकास के नए दौर को देखेगा? 

विकास के दावे तो सभी ने किए परन्तु राजनैतिक इच्छा शक्ति की कमी और कुशल नेतृत्व की हमेशा कमी रही । यहाँ विकास के बहुत से मुद्दे हैं परंतु मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित यह क्षेत्र विकास के लिए तरस रहा है। इस क्षेत्र में सड़क, शिक्षा व स्वास्थ्य जैसे मूल भूत मुद्दे भी अभी तक अनछुए हैं ।

 कहने को तो सडकों का जाल विछा दिया गया है पर उनकी क्या दशा है यह सर्वाधिक चिंता का विषय है।  इस क्षेत्र में एक भी ऐसा विद्यालय नहीं जो आज तक स्टाफ पूर्ति के लिए  न तरस रहा हो।कहने को तो यहाँ बहुत से विद्यालय वरिष्ठ माध्यमिक कर दिए गए हैं परंतु उनमें स्टाफ की स्थिति का पता लगाया जाए तो वेहद शर्मनाक स्थिति है। 

स्वास्थ्य सुविधाओं का तो और भी बुरा हाल है । यह ऐसे तथ्य हैं कि इनका सर्वेक्षण करवाया जाना अनिवार्य है। इस क्षेत्र के लोग हर बार ठगा सा महसूस करते हैं ।काश निकट भविष्य में कोई ऐसा नेतृत्व उभर कर सामने आए जो इस क्षेत्र की ओर भी अपनी राजनीतिक प्रतिबद्धता व इच्छा शक्ति का परिचय दे और लोगों के राजनैतिक व सामाजिक अधिकारों की रक्षा करे व क्षेत्र के सर्वांगीण विकास को प्राथमिकता दे। 

आने वाले वक्त में इस क्षेत्र का क्या भविष्य होगा यह तो वक्त ही बताएगा। शायद कोई किरण प्रकाश की इस क्षेत्र की विकास की ओर अग्रसर हो और यह क्षेत्र भी विकास के सफर पर आगे बढ़ने का सौभाग्य प्राप्त करे।एक कुशल व दूरदर्शी नेतृत्व की उम्मीद है ।

लेखक: विक्रम वर्मा

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.