आखिरकार भरमौर में बहाल हुआ जियो नेटवर्क, ठेकेदार की हुड़दंगबाजी बनी जनता की आफत, पढें पूरा झोल

आखिरकार भरमौर में बहाल हुआ जियो नेटवर्क, ठेकेदार की हुड़दंगबाजी बनी जनता की आफत, पढें पूरा झोल

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 26 Nov, 2021 11:40 am प्रादेशिक समाचार क्राईम/दुर्घटना सुनो सरकार देश और दुनिया लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर चम्बा मनोरंजन आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश , मोनु राष्ट्रवादी(मुख्य संपादक)

जिला चम्बा के भरमौर क्षेत्र में पिछले 3 दिनों से चली आ रही जिओ नेटवर्क की समस्या आखिरकार आज बहाल गई है और ऐसी उम्मीद है कि निकट भविष्य में भरमौर के बाशिंदों को जीओ के नेटवर्क को लेकर असुविधा नहीं होगी।  

हालांकि पिछले कई समय से लोग नेटवर्क की समस्या को लेकर सोशल मीडिया के माध्यम से शिकायत कर रहे थे लेकिन पिछले 2 दिनों से भरमौर विधानसभा क्षेत्र का नेटवर्क पूरी तरह से ठप रहा जिस कारण हजारों जिओ नेटवर्क यूजर को असुविधा का सामना करना पड़ा। नेटवर्क को लेकर आ रही परेशानी के पीछे एक बहुत बड़ा झोल सामने आया है कि किस तरह से ठेकेदार के द्वारा अपने लाभ के लिए प्रशासन और लोगों को गुमराह किया जा रहा था।  


3 साल पहले जारी किए गए चंबा से खड़ामुख क्षेत्र के जिओ फाइबर को डालने को लेकर कंपनी ने टेंडर किया था जिसे पंजाब के किसी ठेकेदार ने लिया था।  उक्त ठेकेदार ने उस काम को पेटी पर किसी दूसरे ठेकेदार और दूसरे ठेकेदार में तीसरे ठेकेदार को काम दे दिया था।  ठेकेदारों द्वारा अपने लाभांश के लालच में अपने से नीचे ठेकेदार व मजदूरों को पेमेंट नहीं की गई जिस कारण काम की गति तो धीमी हुई साथ ही मजदूरों को पैसे न मिलने से वे भी परेशान रहे। जिओ कंपनी के प्रबंधन की टीम 2 दिन से चंबा जिला प्रशासन व पुलिस के साथ बैठकर इस समस्या को सुलझाने में लगी थी कि आखिर लोगों को नेटवर्क के कारण आ रही समस्या को कैसे सुलझाया जाए।

एक नजर इधर भी - कैंसर अस्पताल शिमला में भर्ती महिला मरीज ने नसें काटकर की खुदकुशी,छोड़ा सुसाइड नोट  

ठेकेदार की उदंडता से लोगों को करना पड़ा समस्या का सामना 
कंपनी के एक आला अधिकारी से जब हिमाचल जनादेश की बात हुई तो उन्होंने कहा कि दरअसल कंपनी ने जिस ठेकेदार को काम दिया था उसे कंपनी द्वारा 82 फ़ीसदी राशि जारी कर दी गई है लेकिन उक्त ठेकेदार द्वारा ली गई राशि को नीचे दिए गए ठेकेदारों को नहीं दिया जिस कारण ठेकेदारों हुआ मजदूरों को पैसे नहीं मिले। ऐसे में अपने पैसे लेने के लिए नीचे काम कर रहे हैं ठेकेदार द्वारा बार-बार  जियो केबल को काटा जा रहा था जिस कारण लोगों को नेटवर्क की असुविधा का सामना करना पड़ा। उन्होंने बताया करीब 2 दिन के प्रशासनिक परिचर्चा के बाद आखिरकार नेटवर्क बहाल कर दिया गया है व ठेकेदार की उद्दंडता और कंपनी का नाम खराब करने को लेकर उक्त ठेकेदार के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही भी करवाई जाएगी।  

 

नेटवर्क समस्या को लेकर कंपनी को गलत ठहराना निराशाजनक-जियो प्रबंधन 
जिओ आला अधिकारी ने बताया कि मुझे बहुत अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि चंद लोगों ने अपने राजनीतिक हित के लिए जिओ को कसूरवार बताया जबकि हकीकत यह थी कि ठेकेदार द्वारा खुद बारंबार केबल को काटा जा रहा था जिस कारण लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ा। उन्होंने बताया कि भरमौर क्षेत्र अंतर्गत करीब 32 टावर आते हैं जिनमें खड़ामुख से होली व खड़ामुख से भरमौर की जिओ केबल को ठेकेदार के द्वारा 6 माह पहले ही डाल दिया गया है लेकिन चंबा से खड़ामुख तक काम कर रहे ठेकेदारों की वजह से लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ा जिसका हमें अफ़सोस है। उन्होंने कहा रिलायंस कंपनी में आज तक आर्थिक अनियमितताएं नहीं रही शायद इसलिए ही यह कम्पनी आज देश के विकास और लोगों को सुविधा देने के लिए अग्रणी मानी जाती है। 


नेटवर्क समस्या को हल करने के लिए डॉ जनकराज बने मसीहा
नेटवर्क में आ रही असुविधा को लेकर भरमौर क्षेत्र के युवाओं ने सोशल मीडिया के माध्यम से अपनी आवाज को उठाया जिसमें बहुत सारे लोगों ने भरमौर से संबंध रखने वाले आईजीएमसी मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर जनकराज को फोन और मैसेज के माध्यम से समस्या सुलझाने का आग्रह किया।  बात जनजातीय क्षेत्र की थी इसलिए उन्होंने तुरंत प्रभाव से कंपनी प्रबंधन व जिला प्रशासन से संपर्क साधा और विधानसभा  में आ रही समस्या को सुलझाने में जुट गए।

डॉ जनक राज अपने व्यस्तता दिनचर्या के बावजूद भी दो दिनों तक जियो प्रबंधन  और प्रशासन के संपर्क में रहे और समस्या हल होने के बाद लोगों को whatsapp के द्वारा अवगत करवाया। जिओ नेटवर्क में आ रही समस्या को हल होने के बाद युवा वर्ग में विशेषतः काफी खुशी देखने को मिल रही है जिसमें वे इस समस्या को हल करने के लिए डॉक्टर जनक राज का धन्यवाद करना नहीं भूल रहे। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.