किसान महापंचायत में जमकर गरजे राकेश टिकैत,कहा चाहे कोरोना का बाप भी आ जाये तब भी कानून बापसी तक आन्दोलन ख़त्म नही होगा 

किसान महापंचायत में जमकर गरजे राकेश टिकैत,कहा चाहे कोरोना का बाप भी आ जाये तब भी कानून बापसी तक आन्दोलन ख़त्म नही होगा 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 07 Apr, 2021 07:34 pm प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल सुनो सरकार लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर सिरमौर स्वस्थ जीवन आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश ,पांवटा साहिब ( डॉ प्रखर गुप्ता )

सिरमौर के पांवटा साहिब के हरिपुर टोहाना में किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें किसान नेता राकेश टिकैत समेत कई राष्ट्रीय किसान नेता पहुंचे हैं. पंडाल में बैठे किसानों ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ राकेश टिकैत का स्वागत किया। 

बता दें कि चौधरी राकेश टिकैत, गुरनाम सिंह चढूनी, अभिमन्यु, चरणजीत सिंह जैलदार, हरप्रीत सिंह खालसा, जसविंदर सिंह विलिंग आदि मौजूद रहे।गौर रहे कि कृषि कानून के खिलाफ हिमाचल में पहली बार किसान महापंचायत का आयोजन किया गया है. इस महापंचायत के जरिए किसानों को कृषि कानून के खिलाफ किसान नेता जागरूक करने का प्रयास कर रहे हैं। 

महा पंचायत में किसान नेता राकेश टिकैत जमकर गरजे!  किसान नेता ने केंद्र सरकार पर भी तीखा हमला बोलते हुए कहा कि ये समझ लो कि ये हमारा शाहिन बाग का आंदोलन नहीं है, जो कोरोना के आने से खत्म हो जाएगा। पश्चिम बंगाल का चुनाव निपटते ही सब कुछ सामान्य हो जाएगा। उन्होंने हिमाचल सरकार को भी सीधे शब्दों में कहा कि किसानों को ट्रांसपोर्ट सब्सिडी दी जाए, जंगली जानवरों का इलाज नहीं कर सकते तो नुक्सान का मुआवजा दिया जाए। 

उन्होंने कहा कि दिल्ली में चल रहे आंदोलन की स्थानीय कमेटियों को पहाड़ों में जाकर किसानों की समस्याओं से रू-ब-रू होना चाहिए। टिकैत ने ट्रिपल टी का नारा देते हुए कहा कि टैंक ,ट्रैक्टर, टिवट्र ही देश को बचाएंगे। उन्होंने कहा कि किसान ट्रैक्टर के लिए तैयार रहे तो युवा टिवट्र को हैंडल करें। वहीं देश का जवान सीमा की रक्षा टैंक से करवाएगा। टिकैत ने सवाल उठाया कि 2004 के बाद सरकारी कर्मचारियों की पैंशन को बंद कर दिया गया है, लेकिन विधायकों व सांसदों की पैंशन जारी है।

टिकैत ने साफ़ शब्दों में कहा कि चाहे कोरोना का बाप भी आ जाए तो भी किसान आंदोलन बंद नही होगा। टिकैत ने कहा कि ये समझ लेना कि 2021 का साल आंदोलन का है। पहाड़ के किसानों को भी दिल्ली आंदोलन में शामिल होने की आवश्यकता है। टिकैत ने कहा कि किसान भाईयों को यह समझ लेना चाहिए कि बैठक या फिर रैली के लिए आपको कोई भी अनुमति नहीं मिलने वाली। हम भी रैलियों या आंदोलन के लिए कोई परमिशन नहीं लेते हैं। 

बता दें कि देर दोपहर बाद टिकैत रैली में पहुंचे थे। महा पंचायत को लेकर पुलिस ने भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए हुए थे। संयुक्त किसान मोर्चा पांवटा साहिब इस महा पंचायत की सूत्रधार थी। टिकैत ने ये भी कहा कि वो मीडिया से नाराज नहीं हैं, क्योंकि वो जानते हैं कि कवरेज न करने को लेकर काफी दबाव है। इसमें स्थानीय नेता अनिंद्र सिंह नौटी, तपेंद्र सैनी, गुरविंद्र सिंह, तरसेम सिंह इत्यादि शामिल थे।  पुलिस ने महा पंचायत पर ड्रोन कैमरों से नजर रखने की व्यवस्था की हुई है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.