केंद्रीय विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश के तुगलकी फरमान पर एबीवीपी लाल,किया रजिस्ट्रार के घर का घेराव, मौके पर पहुंची पुलिस

केंद्रीय विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश के तुगलकी फरमान पर एबीवीपी लाल,किया रजिस्ट्रार के घर का घेराव, मौके पर पहुंची पुलिस

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 24 Feb, 2021 06:50 pm प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल क्राईम/दुर्घटना सुनो सरकार लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा स्वस्थ जीवन शिक्षा व करियर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश ,नरेश ठाकुर (राज्य ब्यूरो )

राजनीति का अड्डा बनी केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला परिसर में एक बार फिर प्रशासन और विद्यार्थी परिषद आमने सामने आ गई है। रजिस्ट्रार के तुगलकी फरमानों से खफा एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने जमकर यूनिवर्सिटी प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। एवीबीपी छात्रों को कहना है कि रातो रात अधिसूचना जारी की जाती है और कहा जाता है कि विश्वविद्यालय 2 तारीख तक बंद रहेगा जोकि सरसरा गलत है। 

उन्होंने कहा कि देहरा कैंपस में छात्र अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे है और उधर विश्वविद्यालय प्रशासन दोबारा यह कहा जाता है कि छात्र अशांति फैला रहे है , विश्विद्यालय छात्रों से चेलेगा न कि अद्यापको से ओर रजिस्टार जो मनमानी कर रहे है वो बिल्कुल उचित नही है आज छात्रों के मिड टर्म शुरू होने थे लेकिन अब विश्विद्यालय को बंद कर दिया जिससे छात्रों को नुकसान होगा।

वही अभिषेक विभाग सयोंजक जिला कांगड़ा ने एबीवीपी ने कहा कि सीयू प्रशासन दोबारा रातो रात अधिसूचना जारी होती है और कहा जाता है कि  2 तारीख तक विश्विद्यालय को बंद किया जा रहा है कारण बताया जा रहा है कि छात्र अशांति फैला रहे हैं उन्होंने कहा कि देहरा कैंपस में हमारा मांगो को लेकर प्रदर्शन चल रहा है उन्होंने कहा एबीवीपी अपनी मांगों को लेकर लगातार जारी रहैगी ओर हम मांग कर रहे है कि रजिस्टार ओर डिडब्लूएस को पद से हटाया जाए उन्होंने कहा कि सरकार ने तो पहले ही केंद्रीय विश्वविद्यालय को लेकर राजनीतिक रोटियां सेकी है। 

पुलिस को बुलाने की पड़ी नौबत...
केंद्रीय विश्वविद्यालय धर्मशाला परिसर में जब रजिस्ट्रार नहीं पहुंचे तो दोपहर तक छात्र संगठन ने शिला स्थित उनके आवास पर डेरा लगा दिया। यहां पर माहौल देखते हुए पुलिस बुलाने की नौबत आ गई। यहां तक कि जब केंद्रीय विश्वविद्यालय के एक कर्मचारी ने मध्यस्थता करने का प्रयास किया तो उन्होंने इसका भी एतराज किया। बीच बचाव करते हुए पुलिस को उक्त अधिकारी को वहां से हटाना पड़ा।

छात्रों की 2 टूक मांग हर हाल में हटे रजिस्ट्रार
दोपहर डेढ़ बजे बाद जब पुलिस की मौजूदगी में छात्रों और केंद्रीय विश्वविद्यालय प्रशासन की बात हुई तो छात्रों ने तुगलकी फरमान को लेकर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने हर हाल में रजिस्ट्रार का इस्तीफा मांगा। काफी देर जदोजहद के बीच मामला नहीं सुलझा तो छात्रों ने रजिस्ट्रार को सीयू परिसर में आने की बात कही। उन्होंने यहां तक चेतावनी दी कि अगर यूनिवर्सिटी केम्पस में बात नहीं हुई तो 2 मार्च के बाद रजिस्ट्रार को अंदर आने नहीं दिया जाएगा।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.