अब शिमला से नज़र आएगा अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन,मूली उगाने और कैंसर के रोगों पर किया जा रहा शोध

अब शिमला से नज़र आएगा अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन,मूली उगाने और कैंसर के रोगों पर किया जा रहा शोध

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 21 Feb, 2021 01:05 pm प्रादेशिक समाचार विज्ञान व प्रौद्योगिकी लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर शिमला स्वस्थ जीवन आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश ,शिमला(ब्यूरो )

प्रदेश की राजधानी शिमला,चंडीगढ़ और नई दिल्ली से रविवार सुबह 2 बार 400 किलोमीटर ऊपर अंतरिक्ष में इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन देखने को मिला है।

अंतरिक्ष में वैज्ञानिक जहां मूली उगाने का प्रयोग किया जा रहा हैं, वहीं कैंसर और दिल के रोगों पर भी शोध किया जा रहा है। NASA ने इसकी जानकारी ऑनलाइन शेयर की है। पहले यह एक मिनट और उसके उपरांत 4 मिनट के लिए देखा जा सकता है।

एक नजर इधर भी - जनादेश विशेष: चाचा शिवपाल को ओवैसी का साथ 'पसंद', नहीं करेंगे भतीजे अखिलेश की पार्टी में विलय

NASA की और से भेजा गया यह स्पेस स्टेशन 21 से 24 फरवरी के मध्य हर दिन अलग-अलग वक़्त पर देखने को मिलेगा। यह हर पल कई जगह जाता हुआ दिखाई देने वाला है, इसकी भी NASA ने समयसारिणी को जारी कर दिया है। यह स्पेस स्टेशन पूर्व में भी शिमला और अन्य जगहों से अंतरिक्ष में चलते हुए बहुत ही चमकीले तारे की तरह नजर आता रहा है। विज्ञान के विद्यार्थी, पर्यटक में जहां इसे देखने की उत्सुकता है, वहीं आम लोगों के लिए यह कौतुहल का विषय है।

वैज्ञानिक क्यों उगा रहे मूली--

जंहा इस बात का पता चला यही कि स्पेस स्टेशन में वैज्ञानिक मूली क्यों उगा रहे हैं, इस बारे में नासा की ओर से जारी मिशन सारांश में स्थिति स्पष्ट की जा चुकी है। इसके मुताबिक जब भी अंतरिक्ष यात्री चंद्रमा या मंगल के लिए रवाना होते हैं तो उस समय वहां खाने-पीने की चीजें उगाने के प्रयोग करते हैं।

माइक्रोग्रेविटी और स्पेस की अन्य परिस्थितियों में इसे कैसे सफलतापूर्वक उगाया जा रहा है, इस बारे में प्रयोग किए जा रहे हैं। मूली कम वक़्त में उगती है। यह आनुवांशिकता के अध्ययन के लिए उपयुक्त है और पोषक तत्वों से भी भरपूर होती है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.