सरकार से बात को राज़ी हुए किसान लेकिन कोई शर्त स्वीकार नहीं

 सरकार से बात को राज़ी हुए किसान लेकिन कोई शर्त स्वीकार नहीं

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 29 Nov, 2020 07:29 pm राजनीतिक-हलचल सुनो सरकार देश और दुनिया विज्ञान व प्रौद्योगिकी लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर

हिमाचल जनादेश,न्यूज़ डेस्क 

केंद्र के नए कृषि क़ानूनों का विरोध कर रहे किसानों ने रविवार को कहा कि वो सरकार के साथ बातचीत करने के लिए तैयार हैं लेकिन कोई भी शर्त नहीं मानेंगे। इनमें सिंघु और टीकरी बॉर्डर से दिल्ली के बुराड़ी मैदान में जाने जैसी शर्तें शामिल हैं।  सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर ही बीते तीन दिनों से किसान जमे हुए हैं। भारतीय किसान यूनियन की हरियाणा इकाई के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चधोनी ने कहा, "हम उनके (केंद्र के) प्रस्ताव में शामिल इस शर्त को नहीं मानते।  हम बातचीत करने के लिए तैयार हैं, लेकिन किसी भी शर्त को नहीं मानेंगे। "

क्रांतिकारी किसान यूनियन के पंजाब के अध्यक्ष दर्शन पाल ने कहा, "सरकार ने हमें शर्तों के साथ बातचीत के लिए बुलाया है।  बातचीत का माहौल बनाया जाना चाहिए. अगर कोई शर्त रखी जाएगी तो हम बात नहीं करेंगे। "सर्द मौसम में एक और रात गुजारने के बावजूद रविवार को चौथे दिन भी हज़ारों की संख्या में किसान केंद्र के नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। 

रविवार की शाम को प्रदर्शनकारी किसानों को हरियाणा के खाप नेताओं का समर्थन मिल गया। ये खाप सोमवार को प्रदर्शनकारी किसानों के साथ जुटेंगे और दिल्ली की तरफ कूच करेंगे। हरियाणा के खाप प्रधान और दादरी से विधायक सोमबीर सांगवान ने कहा, "हम केंद्र से एक बार फिर नए कृषि क़ानूनों पर विचार करने का आग्रह करते हैं. हर किसी को अभिव्यक्ति अधिकार है। "सीनियर एडवोकेट एचएस फूलका भी प्रदर्शनकारी किसानों के समर्थन में सुप्रीम कोर्ट के बाहर वकीलों के साथ एकत्र हुए। इस दौरान उन्होंने कहा, "उनके प्रदर्शन को राजनीति का रंग देना ग़लत है।  उनकी माँग जायज है और सरकार को उसे स्वीकार करना चाहिए। "

एक नजर इधर भी- भरमौर:बंद हुए कार्तिक स्वामी कुगति के कपाट, अब बैसाखी को खुलेंगे

उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने किसानों से प्रदर्शन को बुराड़ी ले जाने का आग्रह किया है और कहा कि वो जैसे ही निर्धारित जगह पर पहुँचेंगे केंद्र सरकार उनसे बातचीत करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, "केंद्र सरकार ने 3 दिसंबर को किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल को बातचीत के लिए आमंत्रित किया है।  लेकिन अब उनकी कुछ यूनियनों ने माँग की है कि यह वार्ता तुरंत आयोजित की जानी चाहिए।  जैसे ही सभी प्रदर्शनकारी बुराड़ी में निर्धारित जगह पर पहुँचते हैं, केंद्र उनके साथ बातचीत के लिए तैयार है। "

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (AIKSCC) के एक प्रतिनिधि ने कहा, "अगर सरकार किसानों की माँग को सुनने के प्रति गंभीर है तो उसे इसके साथ शर्तें नहीं जोड़नी चाहिए।  साथ ही यह भी नहीं मान कर चलना चाहिए कि बातचीत किसानों को नए कृषि क़ानूनों के लाभ को समझाने के लिए होगी। "

दरअसल गृह मंत्री अमित शाह समेत बीजेपी के कई दिग्गज नेता तेलंगाना में हैदराबाद नगर निगम के चुनाव प्रचार में जुटे हैं। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.