हिमाचल जनादेश विशेष: 16 चरित्र सरकार दे सदा ही आम बंदे नूं मारदे..

हिमाचल जनादेश विशेष: 16 चरित्र सरकार दे सदा ही आम बंदे नूं मारदे..

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 29 Nov, 2020 09:25 am प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल सुनो सरकार सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश, नरेश ठाकुर (राज्य ब्यूरो)

* जितना कोरोना ने खज्जल नहीं किया उससे ज्यादा खज्जल कर रहे है 'तुगलकी' फरमान 
* आखिर कौन सी 'खज्जलपंती' का शिकार बन गई 'सरकार'

हिमाचल प्रदेश की जनता जितनी 2020 में कोरोना ने खज्जल की वहीं प्रदेश सरकार ने भी 'खज्जलपंती' की सीमाएं लांघने में कोई कोर कसर नहीं रखी। नित नए फैसले आ-जाकर जनता की ही बखियां उधेड़ने में लगे है। अब जब प्रदेश में कोरोना पीक में आने लगा तो यहां तक कह दिया कि सारी जिम्मेवारी ही जनता की है। जबकि विपक्ष से लेकर आम जनता सोशल मीडिया में सरकार द्वारा आयोजित रैलियों के लिए जिम्मेवार ठहरा रही है। यहां तक आरोप लगे कि रैली स्थल को भरने के लिए बसों में लोग 'ठूंस ठूंस' कर लाए गए तब क्या संक्रमण नहीं फैला होगा। जहां बिना मास्कों के 'सुपरमैन' घूम रहे होंगे उनको कोरोना प्रूफ 'शील्डें' पहले ही चाइना से मंगवाई थी। इसके बाद फेस्टिवल सीजन और शादियों को देखते ही कोरोना बाबा के 'मदमस्त' होने का हवाला देकर जबरन 'वसूली' शुरू। इसको लेकर फ़िलहाल जनता में सरकार के प्रति अविश्वास और असंतोष की भावना 'चरम' पर जा रही है। कुछेक तो यहां तक कह रहे है कि यह सारे कांड एक बड़े नेता की ताबूत के आखिरी 'कील' साबित होंगे। दिल्ली के 'आका' को खुश करने के लिए शरीफ नेता की शरीफी पर 'डाका' डाला जा रहा है। बहरहाल, 'आका' और 'काका' की लड़ाई हिमाचलियों के लिए जी का 'जंजाल' बनती जा रही है। 

एक नजर इधर भी:-प्रदेश सरकार का बड़ा निर्णय,अब राजनीतिक,सामाजिक व धार्मिक,शादियों में सिर्फ 50 लोगों को इजाजत,पढ़े पूरी खबर

जमीनी रिपोर्ट की दरकिनारी पड़ रही है 'भारी' 
जानकार बताते है कि इस बार जब सरकार ने कर्फ्यू का फैसला लिया था, तब बारह जिलों में से आठ जिलों के उपायुक्तों ने इस पर असहमति जताई थी। सरकार को भेजी अपनी रिपोर्ट में यह कहा था रात के कर्फ्यू से कोई फायदा नहीं होगा। ग्रास रुट से जुड़े अफसरों की फील्ड रिपोर्ट ग्रास रूट से जुड़ी हुई होती है। पर हश्र यह होता है कि शिमला के आसमान पर सितारों की तरह चमकने वाले अफसर जमीन की नब्ज का अवलोकन नहीं करते। आज का दौर ऐसा है कि हर किसी की जिंदगी खतरे में हैं, आजीविका खतरे में हैं। चार आसमानी अफसरों की सोच का असर रहा तो जिंदगियां भी आसमान पर ही नजर आ सकती हैं।


  
 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.