शिमला:कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच शिमला में चलेगा नो मास्क नो एंट्री नो सर्विस अभियान

शिमला:कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच शिमला में चलेगा नो मास्क नो एंट्री नो सर्विस अभियान

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 23 Nov, 2020 07:05 pm प्रादेशिक समाचार लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर शिमला स्वस्थ जीवन आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश,शिमला (गुलवन्त ठाकुर)

लोगों को जागरुक करने के लिए पंचायत स्तर तक होगा समितियों का गठन

कोविड -19 संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन ने कसी कमर

एडीसी शिमला ने नगर निगम, व्यापार मंडल और विभिन्न अधिकारियों के साथ कि बैठक

कोरोना पॉजिटिव मरीजों को ऑक्सीमीटर के साथ मेडीकल किट करवाई जाएगी उपलब्ध

शिमला में कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकने के लिए प्रशासन और सख्ती करने जा रहा है।प्रशासन ने लापरवाही करने वालों लोगों के खिलाफ सख्ती करने का निर्णय लिया है। प्रशासन अब ऐसे लोगों पर सख्ती बरतने जा रहा है जो लोग बिना मास्क के घूमते हैं। 

एक नजर इधर भी - शीतकाल में बन्द रहने वाले शिक्षण संस्थान पहली जनवरी से12 फरवरी 2021 तक रहेंगे बन्द,पढ़े मंत्रिमण्डल के और भी निर्णय

प्रशासन ने इसके लिए नो मास्क,नो एंट्री,नो सर्विसअभियान शुरु करेगा.कोविड -19 के संक्रमण को रोकने के लिए सोमवार को हुई बैठक में प्रशासन ने यह यह निर्णय लिया है। एडीसी शिमला अपूर्व देवगन की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई बैठक में नगर निगम वार्ड पार्षद, व्यापार मण्डल और विभिन्न विभागों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। 

बैठक में शिमला ग्रामीण व शहरी वार्ड और पंचायत स्तर पर संक्रमण को रोकने के लिए जागरूकता समितियों का गठन करने का निर्णय लिया गया है।जिसमें पार्षद एवं पंचायत प्रधान को उस कमेटी का अध्यक्ष नियुक्त किया जाएगा और कमेटी में 6 से 7 व्यक्तियों को सदस्य के रूप में नियुक्त किया जाएगा ताकि बढ़ते संक्रमण को रोका जा सके। 

एसडीएम शिमला शहरी मनजीत शर्मा ने बताया कि समितियों द्वारा हर वार्ड तथा पंचायतों में 60 वर्ष से अधिक उम्र वाले व्यक्तियों वाले लोगों की पहचान करके सूची तैयार की जाएगी, जिसके बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और मुख्य चिकित्सा अधिकारी के सहयोग से उनकी रेंडम सैंपलिंग की जाएगी यदि सैंपल के दौरान व्यक्ति पॉजिटिव निकलता है तो  पाॅजिटिव व्यक्ति का ध्यान रखा जाएगा और प्रत्येक मरीज को आॅक्सीमीटर सहित जरूरी मेडिकल किट भी  उपलब्ध की जाएगी।

उन्होंने बताया कि समितियों द्वारा लोगों को धार्मिक, सामाजिक एवं  पारिवारिक कार्यक्रमों में भीड़ इक्ट्ठी न होने के प्रति जागरूक किया जाएगा। उन्होंने सभी पार्षदों को अपने वार्ड में कमेटी का गठन करके सूची को कार्यालय में भेजने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि शादियों एवं अन्य समारोहों में भीड़ को कम करने की आवश्यकता है, जिसके लिए चुने हुए प्रतिनिधि एवं व्यापार मण्डल के सहयोग की आवश्यकता है। बताया कि ‘नो मास्क, नो एन्ट्री, नो सर्विस’ का मुख्य उद्देश्य जहां लोगों को बिना मास्क के अनुमति नहीं रहेगी। वहीं कार्यालयों में भी बिना मास्क के कोई भी सेवाएं नहीं दी जाएगी. बैठक के दौरान अतिरिक्त उपायुक्त ने कोरोना जागरूकता की शपथ भी दिलवाई। 
मनजीत शर्मा, एसडीएम शिमला शहरी--

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.