जनादेश विशेष:राजनैतिक निठल्लेपन की भेंट चढ़ा पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय उच्च मार्ग,रोज घंटों लगता है जाम 

जनादेश विशेष:राजनैतिक निठल्लेपन की भेंट चढ़ा पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय उच्च मार्ग,रोज घंटों लगता है जाम 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 16 Nov, 2020 08:21 pm प्रादेशिक समाचार सुनो सरकार लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा

हिमाचल जनादेश,मोनु राष्ट्रवादी(मुख्य संपादक)

पठानकोट मंडी राष्ट्रीय उच्च मार्ग जिसे डिफेंस रोड के नाम से भी जाना जाता है हजारों गाड़ियां और रोज इस सड़क मार्ग से अपने गंतव्य तक पहुंचती हैं लेकिन जब गाड़ियां जिला कांगड़ा के गग्गल को पार करती हैं तो उनके पहिए की गति थम जाती है और महज 3 किलोमीटर की दूरी अर्थात कछियारी तक पहुंचने के लिए आधे घंटे से अधिक का समय लग जाता है जिसकी वजह है सड़क पर लगने वाला गाड़ियों का जाम। 

मजे की बात यह कि यह जाम विशेष दिनों में नहीं बल्कि करीब हर रोज लगता है।  रोज सुबह अपने काम पर निकलने वाले कर्मचारी कामगारों को इस दिक्कत का सामना करना पड़ता है और अब आलम यह है कि इस सड़क मार्ग से गुजरने वाले लोग अपने गंतव्य के लिए आधा घंटा पहले निकल पड़ते हैं क्योंकि अब उन्हें इस जाम की आदत सी हो गई है। 

एक नजर इधर भी -जिला चम्बा की सुप्रसिद्ध पर्यटन नगरी डलहौज़ी में हुआ मौसम का पहला हिमपात,पर्यटकों के खिल उठे चेहरे

दुर्भाग्य की बात यह कि ये फोरलेन मंडी से होते हुए देश की सीमाओं तक जाता है जहां से रोज सेना की गाड़ियां गुजरती रहती हैं जिन्हें भी इस जाम से होकर गुजरना पड़ता है।  इसी सड़क मार्ग से टांडा स्थित मेडिकल कॉलेज को भी रोज एंबुलेंस और निजी वाहनों के द्वारा मरीजों को लाया ले जाया जाता है। 

शायद यह कांगड़ा का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि विधानसभा क्षेत्रों की आधार पर प्रदेश का सबसे बड़ा जिला होने व दिग्गज नेताओं द्वारा इस जिला का प्रतिनिधित्व करने के बावजूद भी इस विकट समस्या को सुधारने के लिए जहमत नहीं उठाई गई।  हालांकि पहले यह बहाना बनाया जाता था कि पुराना मटौर स्थित पुल जर्जर हालात में है इसीलिए सड़क जाम लग जाता है लेकिन करीब 1 वर्ष पूर्व इस स्थान पर नया पुल बन जाने के बावजूद भी आज आलम जस का तस है। 

लाइव वीडियो को देखने के लिए यहाँ क्लिक करें........

केंद्र सरकार द्वारा  इस सड़क को  फोरलेन बनाने के लिए  योजना तैयार की गई थी  जिसको लेकर  कुछ-कुछ जगह पर निर्माण कार्य भी शुरू हो गया था  लेकिन ऐन वक्त पर बजट ना होने का हवाला देकर इस सड़क मार्ग के  निर्माण से  हाथ पीछे खींच लिए.  विपक्ष ने भी  अपनी राजनैतिक रोटियां सेंकने के लिए 4 दिन इस मुद्दे को  खूब उठाया लेकिन  अब यह बातें फिर ठंडे बस्ते में जा चुकी हैं क्योंकि  शायद वे जानते हैं कि इस राष्ट्रीय उच्च मार्ग को लेकर जितनी नाकामी वर्तमान सरकार की है उतनी ही नाकामी उनकी भी है क्योंकि इससे पूर्व उनकी सरकार ही प्रदेश का नेतृत्व कर रही थी। 

हिमाचल जनादेश का कैमरा आज जब इस सड़क मार्ग पर पहुंचा तो करीब आधे घंटे तक चली फेसबुक लाइव को हजारों लोगों ने देखा व प्रतिक्रियाएं दी। उस लाइव को संभवत पुलिस प्रशासन व जिला प्रशासन ने भी देखा होगा लेकिन इस हालात को दुरुस्त करने के लिए कोई उचित कदम उन्होंने उठाना जरूरी नहीं समझा नतीजा सुबह 11:00 बजे से लगा यह जाम शाम 7:00 बजे तक बना रहा। 

स्थानीय लोगों ने बताया कि इस सड़क मार्ग पर जाम लगना अब आम सी बात हो गई है । वे कई बार इस विषय को लेकर प्रशासन से मिल चुके हैं लेकिन प्रशासन के कानों पर कभी जो नहीं रेंगी। ऐसे में प्रश्न उठता है कि प्रदेश की दूसरी राजधानी कहलाए जाने वाला यह जिला आज इतने भारी जाम से गुजर रहा है तो आने वाले वर्षों में हालात क्या होगी इसका अंदाजा सहसा ही लगाया जा सकता है। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.