ब्रिटेन में अगले महीने से शुरू हो सकता है कि कोरोना वायरस वैक्सीन का टीकाकरण, अस्पतालों को तैयार रहने के निर्देश

ब्रिटेन में अगले महीने से शुरू हो सकता है कि कोरोना वायरस वैक्सीन का टीकाकरण, अस्पतालों को तैयार रहने के निर्देश

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 26 Oct, 2020 05:33 pm प्रादेशिक समाचार सुनो सरकार देश और दुनिया लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा स्वस्थ जीवन

हिमाचल जनादेश,न्यूज़ डेस्क 

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच ब्रिटेन से अच्छी राहत भरी खबर सामने आई है। जहां, अस्पतालों को कोरोना वायरस के टीकाकरण के लिए तैयारी शुरू करने का निर्देश दिया गया है। एक रिपोर्ट के मुताबकि अस्पतालों के स्टाफ से कहा गया है कि जल्द ही उन्हें ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वायरस वैक्सीन का पहला बैच सौंप दिया जाएगा।

ब्रिटिश अखबर द सन की रिपोर्ट के मुताबिक अस्पतालों से कहा गया है कि वे 2 नवंबर से शुरू हो रहे सप्ताह से वैक्सीन की तैयारी शुरू कर दें। बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन को इसके खात्मे के लिए गेमचेंजर माना जा रहा है। इस वैक्सीन को लेकर किए गए अभी तक के ट्रायल में प्रभावी नतीजे सामने आए हैं। 

जानलेवा कोरोना वायरस की चपेट में आने से अभी तक 11.5 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। दूसरी ओर से संक्रमण के बढ़ते खतरे की वजह से दुनियाभर की अर्थव्यवस्था में काफी गिरावट देखने को मिला है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑक्सफोर्ड, फाइजर और बायोटेक की कोरोना वायरस वैक्सीन को जल्द ही मंजूरी मिल जाएगी।

एक नजर इधर भी-6 रुपए बढ़ेगा पेट्रोल-डीज़ल: आज ही टंकी करवा लें फुल, सरकार ने बढ़ाया एक्साइज ड्यूटी

कोरोना वायरस संक्रमण के लिए ऑक्सफोर्ड की जिस वैक्सीन को लेकर पूरी दुनिया को उम्मीद है उसको AZD1222 or ChAdOx1 nCoV-19 नाम दिया गया है। जिसके कि ऑक्सफोर्ट यूनिवर्सिटी ने अस्त्राजेनेका के साथ मिलकर तैयार किया जा रहा है। अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक यह वैक्सीन सबसे पहले उन लोगों को दिया जाएगा जो ज्यादा खतरे का सामना कर रहे हैं। टिकाकरण के लिए लीड्स, हल और लंदन में सेंटर बनाए जाएंगे। 

दूसरी ओर फाइनेंशियल टाइम्स की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोरोनो वायरस (कोविड -19) बीमारी का मुकाबला करने के लिए ब्रिटिश राष्ट्रीय दवा एस्ट्राजेनेका के टीके का बुजुर्ग लोगों में अच्छा असर देखने को मिला है। AstraZeneca का बुजर्गों में मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया देखने को मिली है। 

फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट में मामले की जानकारी रखने वाले दो लोगों का हवाला देते हुए कहा गया है कि कंपनी जिस वैक्सीन का निर्माण कर रही है, उससे बड़े आयु वर्ग के लोगों में सुरक्षात्मक एंटीबॉडी और टी-सेल्स का उत्पादन हुआ है। AstraZeneca ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के सहयोग से वैक्सीन का उत्पादन कर रहा है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.