हिमाचल जनादेश विश्लेषण: पार्टी कार्यालय के शिलान्यास के मौके पर 'ध्वाला' ने क्या दी बिक्रम ठाकुर को नसीहत, पढ़े हमारी इस खास रिपोर्ट में  

हिमाचल जनादेश विश्लेषण: पार्टी कार्यालय के शिलान्यास के मौके पर 'ध्वाला' ने क्या दी बिक्रम ठाकुर को नसीहत, पढ़े हमारी इस खास रिपोर्ट में  

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 23 Oct, 2020 07:52 am प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल ताज़ा खबर स्लाइडर चम्बा काँगड़ा शिमला आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश, नरेश ठाकुर 
 

1998 में धूमल सरकार के हनुमान रहे वरिष्ठ नेता 'रमेश ध्वाला' भले ही अपने बड़े 'बोलों' के लिए बदनाम हो लेकिन जब भी उनके 'बोल' निकलते है कइयों के 'तोल' देते है। ओबीसी समुदाय के बड़े नेता को निपटाने में भले ही उनकी ही पार्टी के 'युवा तुर्क' अपना पूरा जोर लगाए बैठे है। इसके बावजूद देर-सवेर तीखे 'ध्वाला' अपनों को आइना दिखाने से पीछे नहीं हटते है। इसी तरह की खींचतान का गवाह वीरवार को देहरा विधानसभा में पार्टी कार्यालय के शिलान्यास का कार्यक्रम बना। जहां 'धवाला' की दहकती 'ज्वाला' ने उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर को 'मक्की' के नाम पर उलझाया।हालाँकि, वरिष्ठ भाजपा नेता ने युवाओं को 'लोकल वोकल' से जोड़ने के लिए जोर दिया वहीं ठाकुर ने ठाकुरों वाली बात करके मंच से इशारों-इशारों में ध्वाला की ज्वाला को शांत करने का प्रयास किया। 

यह थी ध्वाला की बोल वाणी 
मंच पर सम्बोधन करने आए ज्वालामुखी के विधायक और पूर्व मंत्री रमेश ध्वाला ने कहा कि कार्यकर्ता हमारे नींव के पत्थर है, इन्होने खून से पार्टी को सींचा है। उन्होंने कहा कि गर्व की अनुभूति हो रही है कि माननीय राष्ट्रिय अध्यक्ष ने 6 जिला भवनों का शिलान्यास किया। अपने स्टाइल में बोलते हुए ध्वाला ने कहा कि छोटी चिड़ियाँ भी अपने लिए घोंसला बनती है। इससे पहले पार्टी कार्यक्रम रेस्ट हाउस या सराय में मीटिंग करने को मजबूर होते थे।करीब 2 करोड़ से बनने वाले पार्टी कार्यालयों के भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष समेत सभी का आभार प्रकट करने के साथ बेरोजगारी पर चिंता प्रकट किया। 

एक नजर इधर भी:- शिमला: शहरी मंत्री ने कांग्रेस पर लगाया किसानों को गुमराह करने का आरोप

ऐसे धोते है ज्वाला वाले 'ध्वाला जी'  
बिक्रम ठाकुर को छोटे भाई कहते हुए नसीहत कि समय तो ऐसा निकल जाता है मक्की पर आधारित व्यवसाय शुरू किया। उन्होंने कहा कि काम ऐसा करें कि दुनिया याद करें। मक्की किसानों की समस्या जताते हुए ध्वाला ने कहा कि पहले मक्की का रेट 22 रुपए था अब 10 रुपए किलो है। सच्चाई यह है कि मक्की लोगों को 50 रुपए से कम लागत किसानों को नहीं पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि अभी मक्की के 3 कलेक्शन सेंटर है ऊना, पांवटा साहिब या डमटाल में है। छोटे भाई को बड़े भाई की तरह समझाते हुए कहा कि 'ओल्ड हिमाचल' के लोगों की तर्ज पर यहां के लोगों की आर्थिकी सुधारी जाए। 

एक नजर इधर भी:- चम्बा: विधायक विक्रम सिंह जरयाल ने किया टुंडी-सियाद्रमन सड़क का भूमिपूजन
 

मेरा सारा ध्यान ही मक्की पर लगा दिया: बिक्रम
इसके बाद जब कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर मंच पर आए तो उन्होंने सबसे पहले एकजुटता का संदेश दिया। वहीं कार्यकर्ताओं की आर्थिकी सुधरने के लिए किए गए कार्यों का उल्लेख किया। उन्होंने भी नहले पे दहला मारते हुए कहा कि जब हम इक्क्ठे हो कर काम करेंगे तभी पार्टी पूरी तरह से मजबूत होगी। ठाकुर ने कहा कि हमारे उपमंडल में 2 विधायक है आगे 3 के 3 पार्टी की विधायक हो इसके लिए प्रयास करने है। इशारों ही इशारों में कहा कि बात केवल विधानसभा का बात नहीं होता है।कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि  जो आपसे लड़ने वाले है ये वो लोग है जिन्होंने मुख्यमंत्री के लिए  20-20 लोगों के नाम भेजे है। एक परिवार तक सिमित पार्टी क्या हमसे मुकाबले करेंगे जिला के अंदर कार्यालय हो।उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि मेरा सारा ध्यान ही  मक्की पर लगा दिया। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.