हल्ला बोल: आश्वासनों के राशन से खफा करुणा मूल महासंघ हि.प्र. 20 से शिमला में शुरू करेगा भूख हड़ताल

हल्ला बोल: आश्वासनों के राशन से खफा करुणा मूल महासंघ हि.प्र. 20 से शिमला में शुरू करेगा भूख हड़ताल

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 18 Oct, 2020 08:05 am प्रादेशिक समाचार सुनो सरकार ताज़ा खबर स्लाइडर चम्बा काँगड़ा शिमला शिक्षा व करियर आधी दुनिया

 

हिमाचल जनादेश, नरेश ठाकुर 


* सरकार के लारे-लप्पों से परेशान महासंघ आर-पार की लड़ाई लड़ने को हुए तैयार
* पहले भी विधानसभा में दे चुके है धरने 

करुणा मूल महासंघ हिमाचल प्रदेश गूगल मीट के माध्यम से ऑनलाइन पमिल कुमार की अध्यक्षता में बैठक का आयोजन किया। इसमें लगभग 85 करुणा मूल आधार पर नौकरी के अभ्यर्थियों ने भाग लिया। 

बैठक की अध्यक्षता करते हुए अध्यक्ष पमिल कुमार ने कहा कि महासंघ कई सालों से अपनी मांग को लेकर संघर्षरत है और सरकार इन परिवारों के लिए कुछ भी नहीं कर रही है। हिमाचल प्रदेश में लगभग 4500 मामले सरकार व अनेक विभागों में लंबित पड़े हुए हैं और इन परिवारों को रोजी रोटी परिवार के लालन पालन के लाले पड़ गए हैं। 

उन्होंने कहा कि वे कई बार स्थानीय विधायकों, मंत्रियों यहां तक की हिमाचल प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से कई बार मिले हैं परंतु उन्हें अभी तक आश्वासन के सिवा कुछ भी हाथ नहीं लगा है, जबकि इसके ठीक दूसरी ओर सरकार इन मामलों को नौकरी ना देकर बाहर का रास्ता दिखा रही है। दिन प्रतिदिन नई-नई नीतियां लाकर इन परिवारों को जलील किया जा रहा है साथ ही। विभागाध्यक्ष के साथ मिलकर स्क्रीनिंग कमेटी में किसी ना किसी नीति को आड़े लाकर अभ्यार्थियों को बाहर किया जा रहा है। 

उन्होंने यह भी कहा कि सरकार इसमें अपने चहेतों को बिना किसी शर्त से नौकरियां प्रदान कर रही है जबकि आम जनमानस को दुखी किया जा रहा है अतः अब महासंघ ने यह निर्णय लिया है कि 20 अक्टूबर से लेकर 26 अक्टूबर तक शिमला में भूख हड़ताल का आयोजन किया जाएगा जिसमें सैकड़ों लोगों ने हामी भर ली है अगर सरकार फिर भी नहीं मानी तो 27 अक्टूबर से आमरण अनशन पर बैठने को मजबूर हो जाएंगे। 

एक नजर इधर भी:-कोरोना का आतंकः कांगड़ा में कोरोना से एक की मौत, 24 नए मामले आए सामने

उन्होंने एक बार फिर प्रदेश सरकार से फिर से विनती करते हुए कहा कि सरकार जल्द से जल्द इन परिवारों की दयनीय स्थिति को देखकर बिना किसी शर्त के वन टाइम रिलैक्सेशन के साथ नौकरी प्रदान करें अन्यथा इनके पास आमरण अनशन जैसे दिल को दहलाने वाले निर्णय के अलावा कुछ भी नहीं बचा है इस मौके पर उपाध्यक्ष अजय कुमार कोषाध्यक्ष संजीव कुमार रणजीत चौधरी, राहुल राज, विपिन कुमार, भूतेश्वर कुमार आदि अभ्यर्थी मौजूद रहे

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.