बेरोजगारी : एक  बड़ी समस्या

    बेरोजगारी : एक  बड़ी समस्या

Piyush 23 Sep, 2020 08:13 pm प्रादेशिक समाचार लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा शिक्षा व करियर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश

तोशिका चौधरी (लेखिका हिमाचल प्रदेश केन्द्रीय विश्वविद्यालय में जनसंचार की छात्रा हैं) 

भारत अबादी के हिसाब से दूसरा सबसे बडा देश है और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिकदेश है।भारत एक परमाणु हथियार राज्य है। क्षेत्रीय ताकत है दुनिया की सबसे बड़ी सेना भारत की ही है। दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा रक्षा बजट भारत का ही है,पर उसके बावजूद भारत कई परेशानी से घिरा हुआ है।उनमें से एक महत्वपूर्ण है : बेरोजगारी।

1947-2020 तक भारत की अर्थव्यवस्था कितनी बड़ी है उस पर हमें जरूर गौर करना चाहिए और वर्तमान में अर्थव्यवस्था की हालत क्या होने वाले हैं, इसे भी देखना चाहिए। भारत में कोरोना के कारण बेरोजगारी स्तर बढ़ा।

एक नजर इधर भी- मोदी सरकार के कृषि विधेयक ने शिवराज की बढ़ाई टेंशन, सीएम किसानों की आवभगत में जुटे

जब नौकरी ही नहीं होगी तो इंसान खाएगा क्या। बेरोजगारी का मुद्दा केवल खाने से जुड़ा नहीं है बल्कि बेरोजगारी के मुद्दे से सरकार की बेरुखी नौजवानों की जिंदगी नगल रही है।

2018-19 को देखें तो उसके मुताबिक यहां 2019-20 में 16 लाख नौकरियां कम हो गई। हमें यह समझना जरूरी है कि यह स्थिति कैसे उत्पन्न हो गई।लोगों की खरीदारी कैसे कम हो गई क्योंकि नौजवानों के पास पैसा नहीं है। इसलिए उन्होंने खरीदारी नहीं की क्योंकि उनके पर नौकरी नहीं रही और सरकार ने कंपनियों और उद्योगों की कमर तोड़ दी।

देश का हर नागरिक टेक्स भरता है, डायरेक्ट नहीं भरता तो पर इनडायरेक्ट तो जरूर भरता है।

2018-19 में 89 लाख 70 हजार  नए रोजगार पैदा हुए। लेकिन 2019-20 में घटकर केवल 73 लाख 90 हजार  रह जाने का अनुमान है कि स्तर भी इस बार सबसे खराब असर है।

वही अर्थशास्त्री चेतावनी दे रहे हैं कि सरकार को तुरंत से कोई ना कोई एक्शन लेना चाहिए और गंभीर हो जाना चाहिए क्योंकि बेरोजगारी में लगातार बढ़ोतरी हो रही है।महंगाई बढ़ती ही जा रही है और लोग खरीद नहीं कर रहे हैं।

हमारा देश लोकतांत्रिक देश है यहां पर हम वोट करते हैं। बदले में देश की सरकार की जिम्मेदारी होती है कि हर वह शख्स को रोजगार मुहैया कराए जो उसके लायक है। सरकार को हर व्यक्ति का ध्यान रखना चाहिए यह उसकी ड्यूटी होती है। हम यह चाहते हैं कि हमारी सरकार से जो भी गलतियां हुई है,उसको जल्द से जल्द सुधारा जा सके। देश बदलेगा तो हमारे देश की उन्नति भी होगी तो यह बेहतर है कि सरकार हमारे सभी लोगों के लिए रोजगार पैदा करे। कोरोना  वायरस के कारण लॉक डाउन हो गया जिसके कारण सभी देश के व्यापार, आदि सब बंद हो गए ।

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनामी ने भविष्यवाणी की है कि कोरोना के चलते भारत में बेरोजगारी स्तर 27.1% हो सकती हैं। लगभग बहुत सारे लोगों की नौकरी जाएगी। अब यह दिखने भी लगा है। जैसे-जैसे बेरोजगारी बढ़ेगी, वैसे-वैसे गरीबी भी बढ़ेगी। अभी देखना है कि भारतीय सरकार हमारे देश के नागरिकों के लिए क्या कार्य करती है और क्या वह इसे सुधारने के उपाय ढूंढेंगी ।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.