कोरोना:प्लाज्मा असरदार है या नहीं, अध्ययन जारी - बलराम भार्गव

कोरोना:प्लाज्मा असरदार है या नहीं, अध्ययन जारी - बलराम भार्गव

Piyush 16 Sep, 2020 12:08 pm सुनो सरकार देश और दुनिया विज्ञान व प्रौद्योगिकी लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर स्वस्थ जीवन शिक्षा व करियर

हिमाचल जनादेश, डेस्क 

कोरोना के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी पर भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि इसका इस्तेमाल कई संक्रामक बीमारियों में पिछले 100 साल से होता आ रहा है। कोरोना के मामले में प्लाज्मा थेरेपी असरदार है या नहीं इस बारे में अभी भी अध्ययन चल रहा है। उन्होंने कहा भारत में 14 राज्यों के 25 जिलों के 39 अस्पताल में 464 मरीजों पर ट्रायल किया गया है।

इस अध्ययन के नतीजों के मुताबिक कोरोना के गंभीर मरीजों की मौत को रोकने में यह ज्यादा कारगर साबित नहीं हुई है। हालांकि इन नतीजों पर अभी भी अध्ययन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस अध्ययन के डेटा की समीक्षा की जा रही है, अंतिम नतीजों को प्रकाशित किया जाएगा। इसके साथ स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा गठित नेशनल टास्क फोर्स और संयुक्त निगरानी कमेटी में नतीजों पर चर्चा की जाएगी तब निर्णय लिया जाएगा कि इस थेरेपी का इस्तेमाल जारी रखा जाए या नहीं। 

एक नजर इधर भी- हिंदी दिवस विशेष:71 वर्ष के बाद भी 'राजभाषा हिंदी' कई राज्यों में अपनी जड़ें नहीं जमा पाई

 

तीन वैक्सीन पर तेजी से चल रहा है काम 

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने बताया कि भारत में तीन वैक्सीन पर तेजी से काम चल रहा है। स्वेदशी वैक्सीन कैडिला और भारत बायोटेक वैक्सीन के पहले चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है। सीरम इंस्टीट्यूट ने ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल का काम पूरा कर लिया है। जल्दी ही संबंधित विभाग से अनुमति मिलने के बाद तीसरे चरण के ट्रायल का काम शुरू होगा। यह ट्रायल देश के 14 स्थानों पर 1500 मरीजों पर किया जाएगा। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.