पठानकोट मंडी परियोजना बन रही सरकार के लिए जी का जंजाल 

पठानकोट मंडी परियोजना बन रही सरकार के लिए जी का जंजाल 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 25 Jun, 2020 09:36 am प्रादेशिक समाचार सुनो सरकार धर्म-संस्कृति ताज़ा खबर स्लाइडर काँगड़ा

हिमाचल जनादेश नूरपुर (अर्पण चावला)


राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने तीसरी बार मुख्य सचिव को दिए समस्या के समाधान के निर्देश 


आखिर सरकार की क्या मजबूरी बन गई है कि भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को तीसरी बार व्यवस्था को जगाने  के लिए पत्राचार करना पड़ा है। उन्होंने हिमाचल सरकार के मुख्य सचिव को आदेश दिए कि वह शिकायतकर्ता हिमाचल फोरलेन लोक बॉडी के लोक प्रमुख राजेश पठानिया से सीधे तौर पर मिले और उनकी समस्या का तुरंत समाधान करें। 
ज्ञात रहे के राष्ट्रपति भारत सरकार द्वारा पहले भी हिमाचल फोरलेन लोक बॉडी को दो पत्र प्राप्त हो चुके हैं। जिसमें की माननीय महामहिम ने हिमाचल सरकार के मुख्य सचिव को इस शिकायत बारे तुरंत समाधान करने को कहा था, परंतु अभी तक हमें हिमाचल सरकार की ओर से किसी ने भी कोई संपर्क ना किया है। 
बहरहाल, एक बार फिर 23 जून को महामहिम का तीसरा पत्र प्राप्त हुआ है जिसमें कि उन्होंने मुख्य संसदीय सचिव को आदेश दिए हैं कि वह हिमाचल फोरलेन लॉक बॉडी के लोक प्रमुख राजेश पठानिया से डायरेक्टली बात करें और उनकी समस्या के समाधान हेतु कार्यवाही करें।

यह भी पढ़े:-  कोरोना महामारी के उपचार का दावा करना बाबा रामदेव का दांव उल्टा पड़ा, बढ़ी मुश्किलें
यह है मामला 
सनद रहे कि जब हमारा नूरपुर चौगान ग्राउंड में पठानकोट मंडी फोरलेन परियोजना को शुरू करवाने के लिए 17 दिन तक आमरण अनशन चला था तब हमने एक शिकायत माननीय महामहिम राष्ट्रपति जी को भेजी थी और राजेश पठानिया ने स्वयं ही दिल्ली राष्ट्रपति सचिवालय में दूरभाष से बात करी थी और उन्हें वहां से आश्वस्त किया गया था कि आप की हर तरह से हर संभव सहायता की जाएगी।

जिस के संदर्भ में उन्हें राष्ट्रपति सचिवालय से पत्राचार के जरिए इस पठानकोट मंडी परियोजना को जल्द शुरू आने के लिए मॉनिटरिंग की जा रही है अब हिमाचल फोरलेन लोग बॉडी के लोक प्रमुख राजेश पठानिया वह उनकी कोर कमेटी को इंतजार है कि कब हिमाचल सरकार द्वारा उन्हें वार्ता के लिए बुलाया जाता है और उनकी समस्याओं का समाधान किया जाता है। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.