मंडी:जंगल जमीन जाए भाड़ में मंत्री के लिए हैलीपैड बनना चाहिए,पर्यटन स्थलों को नजरअंदाज कर आईपीएच मंत्री ने अपने घर के पास बना डाला हैलीपैड 

मंडी:जंगल जमीन जाए भाड़ में मंत्री के लिए हैलीपैड बनना चाहिए,पर्यटन स्थलों को नजरअंदाज कर आईपीएच मंत्री ने अपने घर के पास बना डाला हैलीपैड 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 18 Jan, 2020 10:05 pm प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल सुनो सरकार लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर मण्डी

हिमाचल जनादेश,सरकाघाट(रितेश चौहान)


पर्यावरण,जंगल और जमीन को बचाने के लिए भले ही रोज सरकारी दावे किए जाते हों लेकिन इन दावों की हवा धर्मपुर के विधायक और आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ने निकाल दी है। अपने घर से एक किलोमीटर दूर बगैर वन विभाग की अनुमति के शानदार हैलीपैड बना डाला जिससे आम आदमी को रत्ती भर फायदा नहीं होगा।दो चरणों में किये गए निर्माण पर लाखों रुपए खर्च किया गया और डोडर जंगल को डंपिंग साइट बना दिया गया जिसके लिए किस पर एफआईआर दर्ज होगी यह मालूम नहीं।

धर्मपुर युवा कांग्रेस के अध्यक्ष जितेंद्र ठाकुर ने दावा किया है कि खोपूधार हैलीपेड बनाने के लिए नियमों को ताक में रख कर जंगल को बुरी तरह तबाह कर दिया  गया है जिसके लिए संबंधित अधिकारियों पर पुलिस प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए।

उन्होंने मंत्री महोदय ने क्षेत्र के पर्यटन स्थलों को नजर अंदाज करते हुए अपनी सुविधा  ऐसी जगह को चुना जो  घर से सिर्फ एक किलोमीटर की दूरी पर है।इससे मंत्री के परिवार के अलावा कितनी जनता को फायदा होगा यह जगजाहिर है।अपनी स्वार्थपरता के लिए उन्होंने डोडर जंगल को भी नहीं बख्शा और उसे लाखों टन मलबे से ढक दिया गया जिस पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल और उच्च न्यायालय को संज्ञान लेना चाहिए।अभी भी निर्माण कार्य जारी है और हेलीपैड की कटिंग से जो मिट्टी निकल रही है उसको जंगल में फेंका जा रहा है । नियम  के अनुसार जंगल में मिट्टी को डंप नहीं किया किया जा सकता। जंगल के साथ ही चुहडू रा बल्ह तथा शिवद्वाला गांव के लिए खतरा पैदा हो चुका है जो बरसात के समय कहर बनेगा।

 जितेंद्र ठाकुर ने स्थानीय वन अधिकारियों से नींद से जागने का आग्रह करते हुए कहा कि सदियों पुराना जंगल पीडब्ल्यूडी ने सरेआम बर्बाद कर दिया और किसी पर कोई कार्यवाही नहीं हुई। 

युवा कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि टिहरा, संधोल और बनेरडी जैसी जगहों को नजरअंदाज कर खोपुआं में हैलीपेड बनाने के पीछे मंशा साफ है कि मंत्री महोदय बाकी जगहों को दरकिनार कर अपने घर के पास हर चीज बनाना चाहते हैं क्योंकि इसके बाद उन्हें ऐसा मौका नहीं मिलेगा और न ही ऐसा मुख्यमंत्री जो उनकी तरफ आंख बंद करके बैठा रहे। 

उन्होंने किसान भवन भी अपने घर के पास बनाया अब  हेलीपैड बनाने के लिए जंगल को बर्बाद कर दिया है।चुहडू रा बल्ह  गांव के लिए बरसात के समय भारी नुकसान हो सकता है क्योंकि हेलीपैड की मिट्टी उनके घरों से सटे  जंगल में फेंकी गई है घर और गांव घर और गौशालाओं व रास्तों के लिए खतरा बना हुआ है अगर इस मिट्टी से क्षेत्र की जनता को कोई नुकसान होता है तो  इसके लिए वन विभाग की जवाबदेही होगी।

धमपुर न्याय मंच ने भी जताई आपत्ति...
उधर , खोपूधार में नियमों पर ताक पर बनाये जा रहे हेलीपैड के बारे में धर्मपुर न्याय मंच ने कड़ी आपत्ति जताई है। मंच के मुख्य सलाहकार व ज़िला पार्षद भूपेंद्र सिंह सयोंजक गंगा राम ठाकुर सह सयोंजक  कुलदीप ठाकुर व रणतांज राणा, संजय ठाकुर, पवन गुलेरिया, नरेंद्र ठाकुर, करतार सिंह, रूप चन्द,मान सिंह सकलानी, गुलाब सिंह, रविन्द्र कुमार, कशमीर सिंह आदि ने बताया कि मंच ने इस हेलीपैड बारे सभी विभागों से आरटीआई के माध्यम से सूचना मांगी थी l जिसमें पता चला है कि इसके बारे में न तो राजस्व विभाग ने इसके राजस्व कागज़ात जारी किए हैं और न ही वन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र लिया गया है।

एक नजर इधर भी-काँगड़ा :जिला के 17 सरकारी विद्यालयों को मॉडल स्कूल के रूप में करेंगे विकसित-डीसी

ये हेलीपैड कौन विभाग बना रहा है और इसके लिए कितना बजट कहाँ से स्वीकृत किया गया है ? इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई थी।अब कियूंकि इसे आईपीएच मन्त्री महेंद्र सिंह अपने जन्मदिन के मौक़े होने वाले कार्यक्रम के लिए तैयार करवा रहे हैं और रात दिन वहाँ कटिंग की जा रही है और मालवा इधर उधर चारों तरफ फेंका जा रहा है l लेकिन पूछने वाला कोई नहीं है और सारे नियम कानूनों को ठेंगा दिखा कर इसका काम जारी है।

भूपेंद्र सिंह ने कहा कि धर्मपुर के विधायक व वर्तमान सरकार में बने मन्त्री महेंद्र सिंह यहाँ पर सारे काम नियमों को ताक पर रख कर करवा रहे हैं लेकिन मुख्यमंत्री उनकी इस  जँगलराज व परिवारराज के आगे घुटने टेक चुके हैं। हालांकि धर्मपुर न्याय मंच और कई अन्य संग़ठन इस के ख़िलाफ़ आवाज़ उठा रहे हैं लेकिन बेबस मुख्यमंत्री उस पर कोई कार्यवाई नहीँ करवा पा रहे हैं।
धर्मपुर न्याय मंच ने आरोप लगाया है कि ये हेलीपैड मन्त्री द्धारा अपने घर के नज़दीक बनवाना भी सवालों के घेरे में है l न्याय मंच इन सारे मुद्दों पर जनता में जनजागरण अभियान शुरू करेगा ताकि जनता के पैसे का दुरुपयोग रोका जा सके l

पहले खर्चे लाखों की भी हो जाँच
कांग्रेस नेता ने कहा की इससे पहले कुछ माह पहले लाखों खर्च करके इससे कुछ दूरी पर छोटा हैलीपैड बनाया गया था उसमें सेंकडो बोरियाँ सीमेंट रेता बजरी लगाया गया था l उसे अब उखाड़ दिया गय है  l सरकार बताए कि लाखों रुपये जो बर्बाद किए गये है उसका जिम्मेदार कौन है l

 

ग्रीनरी पर फेंका मलबा तो करेंगे कार्यवाही: डीएफओ
वन विभाग के डीएफओ राकेश कटोच ने कहा की  हेलीपैड को लेकर अब परमिशन मिल चुकी है l लोक निर्माण विभाग द्वारा पैसा भी जमा करवा दिया है l अगर मलबा  ग्रीनरी हरियाली पर फेंका जा रहा होगा तो उसे लेकर कड़ी कार्यवाही  की जाएगी l वह अभी रेंजर को साइट पर भेज रहे हैं l

लोक निर्माण विभाग के सुप्रिडेंट इंजीनियर एनपीएस चौहान ने कहा की हैलीपैड का बकायदा टेंडर लगाया गया है l नियमों के अनुसार ही काम किया जा रहा है l कुछ लोग  विकास को लेकर बेवजह अड़ंगा  डाल रहे हैं l

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.