SBI ने दो ग्राहकों को दिया एक ही खाता नंबर, एक ने कराए जमा तो दूसरे ने मोदी जी भेज रहे समझकर निकाल लिए

SBI ने दो ग्राहकों को दिया एक ही खाता नंबर, एक ने कराए जमा तो दूसरे ने मोदी जी भेज रहे समझकर निकाल लिए

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 22 Nov, 2019 05:49 pm राजनीतिक-हलचल क्राईम/दुर्घटना सुनो सरकार देश और दुनिया ताज़ा खबर स्लाइडर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश,न्यूज़ डेस्क

 

एसबीआई बैंक में अजीब मामला सामने आया है। दरअसल यहां एक कर्मचारी की गलती से दो लोगों को एक ही खाते का मालिक बना दिया गया। ऐसे में व्यक्ति अपने खाते में रुपए जमा करता रहा, वहीं दूसरे व्यक्ति उन रुपयों को निकालता रहा। ये मामला मध्य प्रदेश के भिंड का है। हैरान की बात तो यह है कि रुपए निकालने वाले व्यक्ति का कहना है कि उसे लगा कि पीएम मोदी उनके खाते में पैसे डलवा रहे हैं।

ऐसा एक दो बार नहीं बल्कि पूरे छह महीने तक चलता रहा। नतीजा ये आया कि जमा करने वाले ग्राहक के 89 हजार रुपए, दूसरे खाता धारक ने निकाल लिए। जब इस बात का पता चला तो पीड़ित ने बैंक मैनेजर से बात की, जहां मामला सामने आने के बाद बैंक प्रबंधन हक्का बक्का रह गया।

आलमपुरु के रूरई गांव में रहने वाले हुकुम सिंह कुशवाह पुत्र हरविलास कुशवाह मध्यप्रदेश से बाहर काम करते हैं। हुकुम सिंह का खाता आलमपुर की एसबीआई शाखा में है। बैंक की ओर से उन्हें 12 नवंबर 2018 को पासबुक जारी की गई। उनकी ग्राहक संख्या 88613177424 और बचत खाता संख्या 20313782314 है।खाता खुलवाने के बाद हुकुम बाहर चले गए। वे वहां से अपने अकाउंट में रुपए जमा करवाते रहे। जब वापस आकर हुकुम 16 अक्टूबर को अपने खाते से रुपए निकालने बैंक पहुंचे तो उसमें सिर्फ 35 हजार रुपए ही थे।

बताया गया कि खाते से 7 दिसंबर 2018 से 7 मई 2019 के दौरान अलग-अलग तारीखों में 89 हजार रुपयों को निकाला गया। हुकुम ने मैनेजर राजेश सोनकर से शिकायत की। जांच हुई तो पता चला कि हुकुम सिंह को बैंक से जो ग्राहक संख्या और खाता संख्या जारी किया गया था, वो ही रोनी गांव निवासी हुकुम सिंह बघेल पुत्र रामदयाल बघेल को भी जारी किया गया था।

बघेल को बैंक की ओर से 23 मई 2016 को पासबुक दी गई थी। दो ग्राहकों को एक ही खाता संख्या जारी होने की हकीकत सामने आने पर बैंक प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए। जहां प्रबंधन द्वारा बघेल को बुलाया गया।

एक नजर इधर भी-भरमौर :ढांक से गिरकर 27 वर्ष व्यक्ति की मौत ,लोगो ने शव को सड़क पर रखकर किया चका जाम,पढ़े पूरा मामला

उन्होंने लिखित में दिया गया कि 6 महीने में उन्होंने 89 हजार की जो रकम निकाली है, वे उसे कुशवाह को 3 किश्तों में वापस करेंगे। बघेल ने अपने खाते से आधार नंबर को लिंक करा लिया था। उन्होंने रुपयों को कियोस्क सेंटर से निकाला। कियोस्क सेंटर पर ही जाकर बघेल अंगूठे की छाप लगाते और रुपए निकाल लेते।

एक समाचार चैनल के रिपोर्टर से बातचीत में रोनी गांव निवासी हुकुम सिंह बघेल बोले, 'मेरा खाता था, उसमें पैसा आया, मैं सोच रहा था मोदी जी पैसा दे रहे हैं तो मैंने निकाल लिए। हमारे पास पैसे नहीं थे, हमारी मजबूरी थी। हमने घर में काम करवाया है और इसलिए पैसा हमें निकालना पड़ा।' वहीं, उन्होंने सीधे तौर पर बैंक को इसके लिए जिम्मेदार ठहराया है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.