उपद्रवियों ने जेएनयू में उद्घाटन से पहले ही स्‍वामी विवेकानंद की मूर्ति को पहुंचाई क्षति

उपद्रवियों ने जेएनयू में उद्घाटन से पहले ही स्‍वामी विवेकानंद की मूर्ति को पहुंचाई क्षति

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 14 Nov, 2019 04:46 pm राजनीतिक-हलचल क्राईम/दुर्घटना सुनो सरकार देश और दुनिया ताज़ा खबर स्लाइडर शिक्षा व करियर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश ,न्यूज़ डेस्क 

फीस में बढ़ोतरी के बाद जेएनयू एक बार फिर से सुर्खियों में है। इस बार किसी उपद्रवी ने जेएनयू में उद्घाटन से पहले ही वहां रखी स्‍वामी विवेकानंद की मूर्ति को क्षति पहुंचाई है।

 फीस में बढ़ोतरी के बाद जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय एक बार फिर से सुर्खियों में है। इस बार किसी उपद्रवी ने जेएनयू में उद्घाटन से पहले ही वहां रखी स्‍वामी विवेकानंद की मूर्ति को क्षति पहुंचाया दिया है। यहीं नहीं वहां मूर्ति के पास अपशब्द को लिख कर किसी खास राजनीतिक पार्टी के खिलाफ अपना विरोध जताया है।

 

 

इधर इस मामले में राजनीति गरमा गई है। स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर आपत्तिजनक शब्द लिखे जाने के मामले में एनएसयूआई और एबीवीपी के छात्रों के बीच गहमागहमी शुरू हो गई है। सभी एक दूसरे पर आरोप-प्रत्‍यारोप कर रहे हैं। हालांकि विवाद के बाद छात्रों ने वहां से लिखा हुआ हटा दिया है।बता दें कि जेएनएयू लगातार 15 दिनों से सुर्खियों में है। वहां सरकार के द्वारा फीस बढ़ोतरी के बाद से छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

सख्‍त कार्रवाई की मांग

स्‍वामी विवेकानंद की मूर्ति के साथ हुई क्षति के बाद भाजपा ने इस पर आपत्‍ति जताई है। भाजपा के राज्‍यसभा सांसद राकेश कुमार सिन्‍हा ने आरोपियों पर सख्‍त से सख्‍त कार्रवाई करने की मांग की है। उन्‍होंने कहा कि विश्‍वविद्यालय में पढ़ने वाले राष्‍ट्रविरोधी तत्‍वों की पहचान होनी चाहिए। उन्‍हें पहचान कर जल्‍द-से-जल्‍द कैंपस के बाहर करना चाहिए।

एक नजर इधर भी-बड़ी खबर:राफेल मामले की नहीं होगी जांच, SC ने खारिज की पुनर्विचार याचिका

15 दिनों से चल रहा प्रदर्शन

जेएनयू में हॉस्‍टल समेत अन्‍य सुविधाओं के लिए फीस में बढ़ोतरी के बाद से छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं। इस प्रदर्शन के बाद कार्यकारी परिषद की बैठक में यह फीस बढ़ोतरी को कम करने का निर्णय लिया गया है। हालांकि फीस में कमी के बाद भी छात्र-छात्रा अपने विरोध प्रदर्शन को जारी रखे हुए हैं।

उन्‍होंने कहा कि जब तक पहले जैसा ही शुल्‍क का स्‍ट्रक्‍चर नहीं हो जाता है तब तक यह प्रदर्शन और विरोध जारी रहेगा। इससे पहले 28 अक्टूबर को जेएनयू प्रशासन ने इंटर हॉल एडमिनिस्ट्रेशन (आइएचए) की कमेटी में छात्रवास के नए नियमों को लागू करते हुए सभी छात्रों के लिए छात्रवास की फीस बढ़ोतरी लागू कर दी थी। साथ ही इन छात्रों को बिजली पानी बिल और सर्विस चार्ज भी देना अनिवार्य कर दिया गया था।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.