मंडी:सब्जियों में ग्राफ्टिंग पर शिविर आयोजित,कृषि विज्ञान केंद्र में हुआ आयोजन,30 किसानों ने लिया भाग

मंडी:सब्जियों में ग्राफ्टिंग पर शिविर आयोजित,कृषि विज्ञान केंद्र में हुआ आयोजन,30 किसानों ने लिया भाग

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 08 Nov, 2019 05:10 pm प्रादेशिक समाचार विज्ञान व प्रौद्योगिकी लाइफस्टाइल ताज़ा खबर स्लाइडर मण्डी शिक्षा व करियर आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश, मंडी(उमेश भारद्वाज)

चौधरी सरवन कुमार हिमाचल प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के सब्जी विज्ञान विग द्वारा सब्जियों में ग्राफटिंग तकनीक पर एक दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन कृषि विज्ञान केन्द्र, सुन्दरनगर में किया गया। इस शिविर में 30 प्रशिक्षणार्थियों किसानों, कृषि अधिकारियों व वैज्ञानिकों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के सब्जी विज्ञान विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. प्रदीप कुमार ने सब्जियों में ग्राफटिंग तकनीक पर व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान किया।

उन्होंने कहा कि टमाटर, शिमला मिर्च, हरी मिर्च व आलू, टमाटर कुहल की सब्जियां हैं जिनका उत्पादन प्रदेश में व्यापक स्तर पर नकदी फसल के तौर पर हो रहा है और इन फसलों का किसानों की आजीविका सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने बताया कि इन फसलों में बैक्टिरियल विल्ट व निमाटोड की समस्या गंभीर हैं। जिनका उचित प्रबन्धन न होने की वजह से किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ता है।

किसान इन समस्याओं के प्रबन्धन के लिए कई प्रकार की दवाईयों का प्रयोग करते हैं लेकिन इनका उचित प्रबन्धन नहीं हो पाता है और किसान की उत्पादन लागत में बढ़ोतरी होती है। ऐसी स्थिति में ग्राफटिंग तकनीक किसानों के लिए वरदान साबित हो सकती है। अभी तक यह तकनीक जापान, कोरिया, स्पेन, ईटली जैसे देशों में काफी लोकप्रिय है। भारत में पालमपुर कृषि विश्वविद्यालय इस तकनीक को लोकप्रिय बनाने के लिए निरन्तर प्रयासरत है। कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर ने लगभग 25 से अधिक बैक्टिरियल विल्ट व निमाटोड प्रतिरोधी रूटस्टॉक की पहचान की है जिनका प्रयोग ग्राफटिंग में किया जाता है। इसके अतिरिक्त ग्राफटिंग के माध्यम से पोमैटो को तैयार करने में सफलता प्राप्त की है।

पोमैटो एक ऐसा पौधा है जिसमें एक ही पौधे में टमाटर तथा आलू पैदा किया जा सकता है। कार्यक्रम में किसानों को ग्राफटिंग तकनीक विस्तारपूर्वक जानकारी व व्यवहारिक प्रशिक्षण प्रदान किया गया। इस अवसर पर कृषि विज्ञान केन्द्र के कायक्रम सम्न्वयक डा. पंकज सूद व अन्य वैज्ञानिक डा. डी एस यादव, डा. कविता शर्मा, डा. शकुन्तला राही, डा. एल के शर्मा व कृषि व बागवानी के अधिकारी विशेष तौर पर उपस्थित रहे।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.