हादसों से बेखबर HRTC,जान खतरे में डालकर बस की छत पर सफर

हादसों से बेखबर HRTC,जान खतरे में डालकर बस की छत पर सफर

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 12 Sep, 2017 07:54 am प्रादेशिक समाचार क्राईम/दुर्घटना ताज़ा खबर स्लाइडर सोलन

हिमाचल जनादेश,अर्की(आशीष गुप्ता)

  • बसों में ओवर लोडिंग से विभाग की कार्य प्रणाली पर प्रश्नचिन्ह
  • बसों में ओवरलोडिंग दे रही हादसों को न्योता

सरकार व परिवहन विभाग लोगो को सुरक्षित यात्रा का दावा तो करता है लेकिन दुर्गम क्षेत्रों की सड़कों पर भी सरकारी एवं गैर सरकारी  वाहन तय सीमा से ज्यादा यात्रियों को ठूस कर  दौड़ाने से नहीं चूक रहे हैं।ठूंस-ठूंस कर सवारियां भरने का सिलसिला छोटे वाहनों तक सीमित न होकर सरकारी बसों में भी आम देखा जा रहा है।अर्की के अनेक ऐसे गांव हैं जहां दिन में 1 या 2 बसें रूट पर चलाई गई हैं। जहां सवारियों की तादाद बसों की सख्या से ज्यादा है वही वाहन के आवागमन का समय भी लोगो के हिसाब से न होने के चलते लोग अपने गंतव्य पर पहुंचने के लिए बसों में चढ़ते है ।और प्राइवेट तथा सरकारी वाहन चालक भी ज्यादा कमाई के चक्कर मे बसों में क्षमता से अधिक सवारियों को नियमों को ताक पर रखकर  ले जा रहे है।आज जहां सरकार ने हर गावों कस्बो के लिये सड़क की उपलब्धता सुनिश्चित करने की ठानी है वहीं उन जगहों तक  सरकारी वाहन या प्राइवेट वाहन या बसे न चलने से लोगो को आवाजाही में परेशानी का कारण बन रही है ओर जो लोग छतों पर सफर करने को मजबूर है उनकी जान जोखिम पर बनी हुई है।इन बसों में ज्यादातर कालेज व स्कुलो के बीच है देखे जाते है।ऐसा ही मामला प्रतिदिन अर्की शीलघाट बस में देखने को मिल रहा है,जहाँ बस के अंदर व बाहर कपैसिटी से ज्यादा छत पर  बैठे लोगों को देख कर लगाया जा सकता है । क्षेत्र के ज्यादातर ग्रामीण इलाकों में कम बसे चलने से ओर सवारियां अधिक होने से  किसी दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। जब इस बारे अड्डा इंचार्ज अर्की मोहन लाल से बात की गई तो उन्होंने बताया की एक बस के ड्राइवर की तबीयत खराब होने की वजह से व बसों की कमी होने की वजह से कल दो रूटों की सांवरिया एक ही बस में जाने के कारण ऐसा हु लेकिन सवारियों को समझाया गया और सवारिया नही मानी।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.