11 लाख उपभोक्ताओं को त्यौहारी सीजन में सरकार का झटका

11 लाख  उपभोक्ताओं को त्यौहारी सीजन में सरकार का झटका

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 11 Sep, 2017 10:44 am प्रादेशिक समाचार ताज़ा खबर स्लाइडर

हिमाचल जनादेश,शिमला 

प्रदेश के 11 लाख से अधिक राशनकार्ड धारक ए.पी.एल. उपभोक्ताओं को सरकार ने त्यौहारी सीजन में झटका दिया है। उपभोक्ताओं को सरकार की ओर से फैस्टीवल सीजन में बढ़ी हुई मात्रा में सस्ता राशन कोटा नहीं मिलेगा। ऐसे में प्रदेश भर में कोटे के इंतजार में बैठे उपभोक्ताओं की उम्मीदों को झटका लगा है। सरकार ने अक्तूबर माह के लिए चावल और गेहंू कोटे का आबंटन कर दिया है। ए.पी.एल. परिवारों को अब डिपुओं में घटी हुई मात्रा में ही चावल व आटे का कोटा दिया जाएगा। खाद्य नागरिक आपूॢत विभाग ने इस बारे सोमवार को आदेश जारी कर दिए हैं। सभी ए.पी.एल. परिवारों को अक्तूबर माह में 6 किलो चावल व 10 किलो आटा प्रति परिवार दिया जाएगा। त्यौहारी सीजन में ए.पी.एल. परिवार के लाखों उपभोक्ता राशन के कोटे में बढ़ौतरी की उम्मीद कर रहे थे। इतना ही नहीं एन.एफ.एस. के तहत मिलने वाले राशन कोटे का भी सरकार ने आबंटन कर दिया है। अक्तूबर माह से बी.पी.एल. परिवारों को आटे की जगह फिर से गेहंू दिया जाएगा। बीते सप्ताह हुई कैबिनेट के फैसले के बाद विभाग ने इस बारे आदेश जारी कर दिए हैं। 

 

केंद्र ने किया 16,891 मीट्रिक टन गेहूं का आबंटन
केंद्र ने अक्तूबर माह में ए.पी.एल. के लिए 16,891 मीट्रिक टन गेहूं का आबंटन कर दिया है। इसके अतिरिक्त  8,492 मीट्रिक टन चावल कोटे का भी ए.पी.एल. परिवारों के लिए आबंटन किया गया है। इसी कोटे से जनजातीय क्षेत्रों के लिए भी चावल व गेहूं का एडवांस कोटा जारी कर दिया है, ऐसे में अब ए.पी.एल. परिवारों को अगले माह घटी हुई मात्रा में ही सस्ता राशन खरीद कर संतोष करना पड़ेगा। सरकार ने एन.एफ.एस. के तहत 9,900 मीट्रिक टन गेहूं व 6,956 मीट्रिक टन चावल का भी आबंटन किया है।

कैबिनेट में हुए निर्णय के चलते अक्तूबर माह के लिए सस्ते राशन का आबंटन किया गया है। इस बारे कोटे की उपलब्धता के हिसाब से ही जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। 
- विवेक भाटिया, निदेशक खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.