फुटओवर ब्रिज ढहने से छह की मौत, 31 लोग घायल ,छह महीने पहले ब्रिज को मिला था फिट फॉर यूज़ सर्टिफिकेट....

फुटओवर ब्रिज ढहने से छह की मौत, 31 लोग घायल ,छह महीने पहले ब्रिज को मिला था फिट फॉर यूज़ सर्टिफिकेट....

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 15 Mar, 2019 11:48 am क्राईम/दुर्घटना देश और दुनिया ताज़ा खबर स्लाइडर

हिमाचल जनादेश ,दिल्ली (डेस्क )
 

मुंबई का यह ब्रिज टाइम्स ऑफ इंडिया बिल्डिंग के पास के क्षेत्र को छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन से जोड़ता है. मुंबई हमले के दौरान आतंकी कसाब ने इसी ब्रिज का इस्तेमाल किया था। 

नई दिल्लीः मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के पास गुरुवार को फुटओवर ब्रिज का एक बड़ा हिस्सा ढहने की घटना में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर छह हो गई है जबकि 31 लोग घायल हुए हैं। 

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, इस ब्रिज को लगभग छह महीने पहले ऑडिट रिपोर्ट में फिट फॉर यूज़ बताया गया था. इस घटना से ऑडिट रिपोर्ट पर सवाल खड़े हो गए हैं.
लगभग दो साल ही नगर पालिका द्वारा नियुक्त किए गए कॉन्ट्रैक्टर्स ने मुंबई के सभी 314 पुलों, सबवे और स्काइवॉक का ऑडिट किया था.

बीएमसी के आयुक्त अजॉय मेहता का कहना है, 'मैंने ढांचागत ऑडिट से जुड़े दस्तावेजों की कस्टडी मांगी है. एक बार इसे देखने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. लापरवाही पाए जाने पर सख्त कार्रवाई होगी। 

अधिकारियों का कहना है कि फुटओवर ब्रिज लगभग 35 साल पुराना था और इसकी आखिरी बार 2010-11 में मरम्मत की गई थी। 

एक अधिकारी ने कहा, '2016 में स्वच्छ भारत अभियान के तहत ब्रिज के उत्तरी हिस्से का सौंदर्यीकरण किया गया था लेकिन इसकी मरम्मत नहीं की गई थी. इसमें ब्रिज की टाइल बदली गई थी और नया पेंट किया गया था.'

जनवरी 2019 में बीएमसी ने 50 से अधिक ब्रिजों, फ्लाइओवर, फुटओवर ब्रिज और स्काइवॉक की मरम्मत के लिए 65 करोड़ रुपये खर्च किए थे. अधिकारियों का कहना है कि छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर गुरुवार को जो ब्रिज ढहा है, उसे स्ट्रक्चरल ऑडिट में फिट करार दिया गया था और सिर्फ मामूली मरम्मत की सिफारिश की गई थी. 314 ब्रिजों के ऑडिट में 14 ब्रिजों के पुनर्निर्माण और विध्वंस की सिफारिश की गई थी, जिनमें पांच फुटओवर ब्रिज शामिल थे। 

इस घटना पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, 'यह दुर्भाग्यपूर्ण है. मैंने उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं. ब्रिज का पहले स्ट्रक्चरल ऑडिट हुआ था और इसमें यह फिट पाया गया था. अगर इसके बाद भी इस तरह की घटना हुई है तो इससे ऑडिट पर सवालिया निशान खड़ा होता है. इसकी जांच की जाएगी, सख्त कार्रवाई की जाएगी.'

मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिवारों को पांच-पांच लाख रुपये और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये का मुआवज़ा देने का ऐलान किया है. घायलों के इलाज का खर्च भी राज्य सरकार ही उठाएगी। 

मुंबई का यह ब्रिज टाइम्स ऑफ इंडिया बिल्डिंग के पास के क्षेत्र को छत्रपति शिवाजी टर्मिनस रेलवे स्टेशन से जोड़ता है. 26/11 मुंबई हमले के दौरान आतंकी अज़मल कसाब ने इसी ब्रिज का इस्तेमाल किया था. इसलिए इसे कसाब ब्रिज के नाम से जाना जाता है। 

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.