मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र ने 20 दिन में देश के जवानों के लिए बना दी Intelligence Machine Gun .... 

मैकेनिकल इंजीनियरिंग के छात्र ने 20 दिन में देश के जवानों के लिए बना दी Intelligence Machine Gun .... 

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 13 Mar, 2019 12:23 pm देश और दुनिया विज्ञान व प्रौद्योगिकी ताज़ा खबर स्लाइडर

हिमाचल जनादेश ,नई दिल्ली (डेस्क )
 

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद सारनाथ में स्थित एक मैनेजमेंट कॉलेज के एक छात्र ने Intelligence Machine Gun बनाई है। इसकी खासियत ये है कि सिर्फ पहचान कर ये फायर करेगी। अपने जवान इसके टारगेट पर कभी भी नहीं आएंगे। 

ये केवल दुश्मनों पर फायरिंग करेंगी। 20 दिन की मेहनत से इसे तैयार किया गया है। उस छात्र के मुताबिक सीजफायर के दौरान रात में अंधेरे में हमारे जवान दुश्मनों के हमले से शहीद हो जाते हैं। लेकिन Intelligence Machine Gun से वह बच सकते हैं।

करती है चिप से काम

आपको बता दें कि मैकेनिकल इंजीनियरिंग के सेकंड ईयर के स्टूडेंट विशाल पटेल ने 20 दिन की मेहनत से इस गन को तैयार किया है। उन्होंने बताया कि ऑटोमैटिक गन का सर्किट ऑन रहेगा। इसके सामने जैसे ही कोई आएगा वैसे ही कंट्रोल रूम में अलार्म बज जाएगा। इसमें एक चिप जवानों के यूनिफॉर्म में लगा होगा। जिसका गन में फ्रीक्वेंसी ट्रांसमीटर लगा होगा। जवान के सामने आते ही इसका सर्किट बंद हो जाएगा। वहीं दुश्मनों के सामने आते ही अलार्म बंद होकर गन फायर कर देगा।ना के कैंपों की सुरक्षा के साथ वीर जवानों को भी इस टेक्नोलॉजी की मदद से सुरक्षित रखा जा सकता है। इससे दुश्मन को टार्गेट करना भी बेहद आसान होगा।

हुई महज 4 हजार में तैयार

बता दें कि इन गन में लगा हुआ कुछ सामान कबाड़ से भी लिया गया है। जैसे कि डिश टीवी बॉक्स- ट्रिगर के लिए इसे इस्तेमाल किया जा सकता है। रिसर्च एंड डेवलेपमेंट हेड श्याम चौरसिया ने जानकारी दी है कि ये मॉडल एक फ्रीक्वेंसी बेस्ड है। अगर सीसीटीवी भी इसमें लग जाए तो दुश्मनों की एक्टिविटी भी वॉच की जा सकती है। इन बच्चों ने ये एक प्रयास किया है। जिसे देश को प्रोत्साहित करना चाहिए।


 
गन में पार्ट्स

- स्टील ड्रम- बचाव के लिए ये सामने लगा होगा।

- आरएफ ट्रांसमीटर- देश के जवानों की यूनिफार्म की कोडिंग के माध्यम से लगा रहेगा।

- पेयर सेंसर- अगर कोई भी एक्टिविटी इसके सामने होती है तो फिर इसका सर्किट ऑन हो जाता है। जो कि गन में लगा होगा।

- गेयर पुली- सिस्टम मैकेनिकल सिस्टम गेयर पुली है। गन के बैरल को ये रोटेट करवाएगा।

- इसके साथ ही गन में 9 वॉल्ट बैटरी और 1/4 इंच मेटल पाइप भी है। जो कि सिस्टम को चालू रखने के लिए बनी है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.