आखिरकार जनता को खलने लगी ठाकुर सिंह भरमौरी की कमी

आखिरकार जनता को खलने लगी ठाकुर सिंह भरमौरी की कमी

संवाददाता (हिमाचल जनादेश) 06 Mar, 2019 11:03 pm प्रादेशिक समाचार राजनीतिक-हलचल क्राईम/दुर्घटना लाइफस्टाइल सम्पादकीय ताज़ा खबर चम्बा स्वस्थ जीवन आधी दुनिया

हिमाचल जनादेश(मोनु राष्ट्रवादी)

प्रकृति के बरसाए हुए कहर के उपरांत सम्पूर्ण हिमाचल में लगभग जीवन पटरी पर पुनः लौट आया है लेकिन जिला चम्बा की भरमौर विधानसभा आज भी मूलभूत सुविधाओं को तरस रही है। भरमौर के अधिकांश क्षेत्र आज भी मूलभूत सुविधाओं से विमुख हैं। सड़क की तो बात दो अलग यहाँ अधिकांश क्षेत्र पानी और विद्युत सुविधा से भी विमुख हैं।

गौर हो की कुछ ही दिनों में बोर्ड की परीक्षाएं शुरू हो रही हैं, एक तरफ जहां सरकार ने समस्त परीक्षा केंद्रों को सीसीटीवी से लैस करने का दावा किया है तो वहीं दूसरी ओर भरमौर के अधिकतर परीक्षा केंद्रों में आज भी बिजली सुविधा मुहैया नहीं हो पा रही है। ऐसे में सरकार के द्वारा किए गए दावे कम से कम भरमौर विधानसभा में फिसड्डी साबित होने वाले हैं।

विद्युत व जल की आपूर्ति तो अलग भरमौर से महज 15 किलोमीटर तक अब भी सड़क सुविधा दुरुस्त नहीं हो पाई है, बड़ी गाड़ियां जाना तो दूर छोटी गाड़ियों को भी चंबा से भरमौर तक पहुंचाने में मौत को गले लगाने की जैसा साबित हो रहा है । लोगों की माने तो चम्बा से भरमौर तक बस को पहुँचने में अभी कम से कम एक महीने का समय लग सकता है।

एक तरफ जहां राष्ट्रीय उच्च मार्ग के कर्मचारी व अधिकारी इस सड़क को दुरुस्त करवाने के लिए प्रयासरत तो हैं वहीं दूसरी ओर सड़कों को दुरुस्त करवाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाली मशीनें छोटी गाड़ियों को दुर्गम रास्तों को पार करवाने में चांदी कूटने में लगी हुई हैं।

वाहन चालकों की माने तो भरमौर से चंबा आने के लिए दो से तीन जगह पर उन्हें दलदल भरी सड़क से गाड़ी पार करवाने के लिए सड़क मरम्मत में इस्तेमाल की जा रही मशीनों के ऑपरेटरों को 100 से लेकर ₹500 तक की राशि अदा करनी पड़ रही है।

हालांकि लोक निर्माण विभाग व प्रशासन इन दावों को खोखले मान रहा है लेकिन जो भी हो आज जनता के दिल के किसी एक खाली कोने से भरमौरी की याद उन्हें रह रह कर सता रही है। गली , चौराहे और नुक्कड़ पर लोग आपस में यह कहते हुए सुने जा रहे हैं कि अगर आज ठाकुर सिंह भरमौरी होते तो उन्हें इस असुविधा का सामना शायद ना करना पड़ता ।

ऐसा नहीं है कि वर्तमान विधायक आपदा से निपटने के लिए प्रयासरत नहीं लेकिन ठाकुर सिंह भरमौरी की कार्यकुशलता और कार्यशैली रह रह कर लोगों को आज निसन्देह तड़पा रही है ।

यह बात अलग है कि अधिकारियों और कर्मचारियों को लेकर पूर्व मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी सख्त रहे हों लेकिन जनता जानती है कि अधिकारियों और कर्मचारियों के प्रति ठाकुर सिंह भरमौरी का यह सख्त रवैया लोगों के लिए सदैव हितकर ही रहा है ।अपने बर्ताव व व्यवहार से तेजतर्रार माने जाने वाले ठाकुर सिंह भरमौरी आज लोगों को उसी रवैया के कारण याद आ रहे हैं।

सड़क सुविधा , जल व विद्युत की सुविधा कब तक सुचारू हो पाएगी यह कहना तो फिलहाल मुश्किल है लेकिन इन सुविधाओं के चलते भरमौर की जनता में वर्तमान सरकार और प्रशासन के रवैये से खासा रोष देखा जा रहा है जो आगामी चुनाव में वर्तमान प्रदेश व केंद्र सरकार के लिए घातक साबित हो सकता है।

Comments

Leave a comment

What's on your mind regarding this news!

Your comment *

No comments yet. Be a first to comment on this.